Watch ISD Videos Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: Noble prize winner

0

मृत्यु से पूर्व ही अपनी मौत का एहसास हो गया था वी.एस.नायपाल को! सनातन ब्राह्मणत्व की समझ से यह संभव हुआ!

दुनिया में ऐसे बहुत कम साहित्यकार हुए हैं जो अपनी मृत्यु का आभास कर अपनी रचना को अंतिम बता गए हों। अपना अधिकांश जीवन त्रिनिदाद और ब्रिटेन में बिताने वाले वीएस नायपॉल अंग्रेजी के...

0

वंचित बच्चों की मदद के लिए कैलाश सत्यार्थी करेंगे 10 करोड़ युवाओं को तैयार!

अनिल पांडेय। दुनिया में आज भी करीब 16.8 करोड़ बच्चे बाल मजदूरी के लिए अभिशप्त हैं। यह संख्या दुनिया की 5 से 17 वर्ष तक की उम्र की 10 प्रतिशत आबादी के बराबर है।...

ताजा खबर
हमारे लेखक