Watch ISD Live Now   Listen to ISD Podcast

Tagged: poems

0

“संदीप देव” का चैनल देखो

हिंदू  सदा   परिश्रम  करता ,  शांति –  पूर्वक   कार्य  करे ; पूरे  देश  का  बोझा  ढोता ,  पर  देश का नेता  मौज करे । सौ  में  नब्बे  हिंदू – नेता ,  कायर – कमजोर...

0

इकजुट-जम्मू,इकजुट-हिंदू,इकजुट-भारत (भाग-6)

या  तो  जीवन  में  नैतिकता  या  कानून  का  शासन  हो ; जहाँ  नहीं  ये  दोनों  होंगे ,  वहाँ  विनाश  का  शासन हो । भारत में दोनों  समाप्तप्राय हैं , अब जनता ही  आगे आये...

0

पर योगी को कौन लायेगा ?

क्यों सच  कहने पर  पाबंदी ?  क्यों तू  जेहादी का बंदी ? किसी काम का नहीं वो नेता , जिसकी बुद्धि में पूरी मंदी । मंदबुद्धि  जिस  देश  का  नेता ,   देश  डुबो कर ...

0

आठ साल में भेद खुल गया

तेरा   जाना    बहुत   जरूरी ,   तभी   राष्ट्र  बच   पायेगा ; कुछ दिन और  रह गया गर तू ,  गजवायेहिंद  हो  जायेगा । एक-एक दिन है  बहुत ही भारी ,  अब वर्षों की  बात नहीं...

0

इस्लाम को अच्छी तरह से जानो

इस्लाम को अच्छीतरह से जानो,नबी की जीवनगाथा जानो; पूरी कुरान ठीक से जानो ,  सीरा जानो , हदीस को जानो । सीरा नबी की  पूरी-जीवनी ,  हदीसें  उनका  क्रियाकलाप ; हिंदू  अपना  अज्ञान  त्याग...

0

इकजुट-जम्मू,इकजुट-हिंदू,इकजुट-भारत (भाग-5)

सरकारें  सब   धंधा  कर   रहीं ,  पैसा  खूब   कमाना  है ; उस  पैसे  से   वोट  खरीदें ,  केवल   सत्ता  में   रहना  है । सत्ता भी किसलिये चाहिये ?  जीवन में ऐश  जो करना है...

0

महानिदेशक जेल की हत्या

बचने का  बस  यही मार्ग है ,  सारे हिंदू  ध्यान से  सुन लें ; कांटे को कांटे से निकालो , अस्त्र-शस्त्र सब घर में रख लें । हमको स्वयं ही रक्षा करनी,इस नाकारा सरकार...

0

परमावश्यक हिंदू-राष्ट्र है

रक्तपात  से   बचना  है  तो ,  अच्छा – शासन   पाना  है ; सर्वश्रेष्ठ    हिंदू – शासन   है ,   हिंदू – राष्ट्र    बनाना   है । सड़े हुये  दलदल हैं  सब दल ,  हिंदू को  इन्हें ...

0

इकजुट-जम्मू,इकजुट-हिंदू,इकजुट-भारत (भाग-4)

कायर , कमजोर , नपुंसक  नेता ,   जेहादी  से  डरते  हैं ; जीवन के कुछ अध्याय हैं काले, इसीसे ब्लैकमेल होते हैं । राजनीति   गंदी    भारत   की ,   भरे   हुये  मक्कार   हैंं ; धर्म...

0

हिंदू का पहला कर्तव्य

बॉलीवुड का  बाप कौन है  ?  भारत का  अब्बासी – हिंदू ; इन  दोनों  का  बहिष्कार  हो ,  तभी बचेगा  देश में  हिंदू । हुआ  मानसिक – खतना जिसका ,  वो अब्बासी – हिंदू...

0

इकजुट-जम्मू,इकजुट-हिंदू,इकजुट-भारत (भाग-2)

उल्टी  राजनीति  भारत  की ,  अपने  वोटर  को  मरवाते ; उनको  लगता   वोट  बढ़ेंगे ,  इसी से  हिंदू  को   डरवाते । निर्दोषों  को    मरने   देते ,  हत्यारों  को   छोड़  रखा   है ; लाशों की ...

0

कृष्ण-विदुर-चाणक्य नीति से

सत्ता    सुख    की    कामना ,   सबसे    गंदी    भावना ; खाओ  कमाओ  मौज  उड़ाओ ,   सत्य  की  अवमानना । डेमोक्रेसी   डेमनक्रेसी   है ,   गुंडों   की   बन   आती  है ; भले   लोग   पीछे   रह   जाते , ...

0

“नोटा” अभियान में लग जाओ

बहुत  हुये  लड्डू-गोपाल ,  अब  तो  उनको  बड़ा  करो ; चक्र-सुदर्शन   हाथ  में   देकर ,  दुष्टों  का   संहार  करो । मरता  हुआ  देश  है  भारत ,  अब  इसका  उद्धार करो ; कृष्ण-नीति  स्थापित  करके...

0

“नोटा” की ताकत से जीतो

जान  की  बाजी  लगी  हुई है ,  हर हिंदू को  लड़ना होगा ; हिंदू  का  ब्रह्मास्त्र  है  “नोटा” ,  सबको इसे चलाना होगा । अब्बासी – हिंदू  कोई  न  जीते ,  पूरी तरह से ...

0

हिंदू के आगे मौत की खाई

हिंदू  जब तक  बंटा  रहेगा ,  गला  सदा  ही  कटा  रहेगा ; सरकारें  भी  जेब  काटतीं ,  टैक्स – बोझ  में  दबा  रहेगा । डेमोक्रेसी   है   डेमनक्रेसी ,   गिरोहबंद   सत्ता   पा  जाते ; अलग-थलग ...

0

एकमात्र साधन है “नोटा”

सारे  दल  बन  चुके  हैं  दलदल ,  सड़े  हुये  हैं   बदबूदार ; भ्रष्टाचार   में   डूब   चुके   हैं ,  ऐसे  ही   हैं   ये  मक्कार । कोई   नहीं   हिंदू   का   रक्षक ,  सारे   धर्म – विरोधी  ...

0

नागपुर में लुटिया डूबी

इतना बड़ा  सुरक्षा घेरा ,  फिर भी  कितना  डरता रहता ? उनके आगे पूंछ हिलाता ,  मजहब वालों से  इतना डरता । हिंदू – धर्म  को  सबसे  ज्यादा ,  हानि  यही  पहुँचाता  है ;...

0

“इकजुट-भारत” का संकल्प

लोकतंत्र   की   विकृतियों   से ,  हिंदू  सदा  ही   हारा  है ; तुष्टीकरण   इसी   से   उपजा ,   हिंदू   हुआ   बेचारा   है । जातिवाद   में   हिंदू   तोड़ा ,  नेता   उल्लू   सीधा   करते ; मजहब का वोट-बैंक...

0

इकजुट-जम्मू,इकजुट-हिंदू,इकजुट-भारत (भाग-3)

देवासुर  संग्राम   चल  रहा ,   युगों – युगों  से   भारत  में ; अब्बासी – हिंदू   जो   नेता  है ,  सत्ता  में  है   भारत  में । कायर,कमजोर, नपुंसक  नेता ,  कैसे  विजय  दिलायेगा ? बात...

0

विनाश काले विपरीत बुद्धिः

अब्बासी – हिंदू  बनने  वाला ,  बदनसीब  है  हिंदू – नेता ; न वो  घर का , नहीं घाट  का ,  जैसे  हो  धोबी का कुत्ता । कितना सम्मान  दिया हिंदू ने ?  आसमान...

ताजा खबर