Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: secularism

1

माँ के नाम पर जहरीला नकाब क्यों हैं?

माँ के नाम पर जहरीला नकाब क्यों है?ये जुबां राना जी की इतनी खराब क्यों है? यह सवाल मैं नहीं पूछ रही हूँ यह सवाल इस देश की तमाम जनता पूछ रही है, कि...

2

उन्होंने नफरतें बांटीं और सेक्युलर्स ने उन नफरतों को प्यार बताया!

इन दिनों एक नया चलन चला है कि जैसे ही कोई हिन्दू त्यौहार आता है वैसे ही सेक्युलर लेखक एवं पत्रकार एक नई थ्योरी गढ़ने लगते हैं कि यह त्योहार तो मुगल काल से...

0

क्या जावेद अख्तर अंग्रेजों के टट्टू बने तथाकथित स्वतंत्रता सेनानी अपने दादा के माफीनामा के बारे में बताएंगे?

विकास सारस्वत, जो एक उद्यमी होने के साथ ही लेखक भी है, ने ट्वीट के सहारे खुलासा किया है कि जावेद अख्तर का खानदान कितना कट्टरवादी रहा है। उन्होंने खुलासा किया है कि जावेद...

0

नेपाली मुसलिम संगठन ने कहा, हिंदू राष्ट्र के अंतर्गत इसलाम ज्यादा सुरक्षित है!

सेकुलरों को नेपाल में रहने वाले मुसलमानों से सीख लेनी चाहिए। जो सेकुलर भारत में हिंदू के नाम पर मुसलमानों को डरा कर उसके वोट बैंक पर राज करना चाहते हैं, उनका भांडा नेपाल...

0

मजहब विशेष और बहुसंख्यकों की ऑनर किलिंग!

मुसलिम चारों ओर से हिंदुओं पर हमला करना शुरू कर दिया है। मुसलिम लड़के जहां हिंदू लड़कियों को लव जिहाद में फांसकर मुसलिम बना रहे है वहीं मुसलिम लड़कियों ने भी हिंदू लड़कों को...

0

जिस दिन अलवर में मॉब लिंचिंग के नाम पर हिंद़ुओं को बदनाम किया, उसी दिन बाड़मेर में एक दलित को मुसलमानों ने लिंचिंग कर मार डाला! खबर सुनी क्या?

इस देश में मीडिया पर हावी पत्रकारों के एक खास तबके ने हिंदुओं को बदनाम करने का ठेका ले रखा है। मुसलमानों को पीड़ित और हिंदुओं को हत्यारा साबित करने में कोई कोर कसर...

0

मॉब लिंचिंग पर टीवी-अख़बार के दबदबे के कारण हिन्दू फंसा है गनभेदी चुप्पी के मकड़जाल में!

चन्द्रकान्त प्रसाद सिंह। मॉब लिंचिंग की जड़ें ईसाइयत, इस्लाम और कम्युनिज़्म में हैं, हिन्दू तो बस ‘मियाँ की जूती मियाँ के सर’ मार रहे हैं! कम्युनिज़्म और इस्लाम के प्रसार का आधार ही मॉब...

0

‘मोहम्मदी हिस्टीरिया’ के दौरे से गुजरता बॉलीवुड!

दुबई के पैसे और वहां के प्रभाव में फलने फूलने वाला मुम्बई फ़िल्म उद्योग जिसने फंतासी की दुनिया के सहारे लव जेहाद चलाने में सबसे बड़ी भूमिका निभाई है, वह एक बच्ची के बलात्कार...

0

मुसलिम पत्रकारों का मजहबी चोला बेनकाब! सोचो, तुम ‘मुसलिम एकता’ के लिए इफ्तार कर रहे हो, यदि ‘हिंदू एकता’ के लिए पत्रकार जमा हो गये तो फिर लोकतंत्र खतरे में नहीं पड़ेगा न?

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को छोड़कर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को दावत देने वाले इमाम बुखारी वाले जामा मसजिद के पास वीआईपी होटल में मुसलमान पत्रकार इफ्तार करने के लिए जमा हुए। केवल...

0

सचेत हो जाइए! आतंकियों और कट्टरपंथी संगठनों के खिलाफ यदि लिखेंगे तो फेसबुक आपको बैन कर देगा!

लाखों लोगों का डाटा चुरा कर बेचने में फेसबुक या उसके सीईओ मार्क जुकरबर्ग के आड़े नैतिकता नहीं आया, लेकिन यदि आप किसी इस्लामी आतंकी या संगठन के खिलाफ लिखेंगे तो फेसबुक नैतिकता का...

0

ममता बनर्जी ने बंगाल में लोकतंत्र को ‘सूली’ पर लटकाया!

पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सरकार उन युवकों के लिए डायन साबित होने जा रही है जो भाजपा समर्थक हैं। भाजपा के समर्थक होने के कारण पहले 18 साल के युवक त्रिलोचन...

0

बंगाल में भाजपा का समर्थन करोगे तो फांसी पर लटका दिए जाओगे! मरने वाला त्रिलोचन महतो, रोहित वेमुला की तरह नकली नहीं, बल्कि असली दलित था, इसलिए मीडिया सो रही है!

पुरुलिया में 18 साल के के दलित कार्यकर्ता त्रिलोचन महतो की हत्या कर लाश पेड़ से लटका दी और उसके और उसकी पीठ पर लिख दिया गया “BJP के लिए काम करने का यही...

0

हिंदू बेटी की बर्बरतापूर्ण हत्या! कब तक चुप्पी साधता रहेगा सेक्युलर ब्रिगेड और मीडिया?

तमिलनाडु के वेल्लोर में एक हिंदू लड़की बेरहमी से चाकू से रेतकर मौत की घाट उतार दी जाती है, लेकिन इस हत्या के खिलाफ देश के उदारवादियों की आवाज नहीं सुनाई देती। ऐसा इसलिए...

0

लालू का राजद मांग रहा हरिजनिस्तान, ममता बना रही मुगलिस्तान! रो रहा है हिंदुस्तान!

अवधेश कुमार मिश्र। आज देश एक अजीब मोड़ पर खड़ा दिख रहा है। कुछ राजनीतिक पार्टियां और उनके नेता अपनी राजनीतिक जमीन खिसकती देख देश को ही बांटने के षडयंत्र में लग गए हैं।...

0

सेक्यूलर हत्या और सेक्यूलरों का मौन!

एक सप्ताह में तीन हत्या, लेकिन कहीं शोर नहीं, क्योंकि मरने वाले तीनों बहुसंख्यक और मारने वाले सभी अल्पसंख्यक हैं! 1) दिल्ली में एक लड़की के मजहबी परिवार ने उसके प्रेमी की गला काटकर...

0

पब्लिसिटी चाहते है तो देश विरोधी बन जाइये!

अगर आप देश विरोधी नारे लगाते हैं, तो आपकी अभिव्यक्ति की आज़ादी के लिए इस देश के सुपर सेक्युलर/लिबरल झंडाबरदार खड़े होंगे। अगर आप ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ कहने वालों की पैरवी करेंगे, उनके...

0

धर्मनिरपेक्ष पार्टियां, धर्मान्तरण के खिलाफ कठोर कानून का विरोध क्यों कर रही हैं ?

विदेशी पैसे का इस्तेमाल कर, ईसाई मिशनरियों ने लालच देकर, उत्तर-पूर्वी भारत के राज्यों तथा आन्ध्र प्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार, झारखण्ड और छत्तीसगढ़ में पिछले 70 सालों में गरीब, आदिवासियों का धर्म-परिवर्तन कराया! अगर कमज़ोर...

0

असहिष्णुता का रोना रोने वाले आमिर, राहुल, केजरीवाल कहाँ हो? देखो ज़ायरा हार गयी कट्टरपंथियों से दंगल में !

हरीश चन्द्र बर्णवाल।भारतीय समाज में इससे बड़ी और शर्मनाक घटना नहीं हो सकती, जब कश्मीर में रहने वाली एक 16 साल की बच्ची ने मुट्ठी भर मुस्लिम कट्टरपंथियों के सामने घुटने टेक दिए। आमिर...

An unholy propaganda that I am Socialist & Secular and my opponents are Capitalist & Communal- makes mockery of our electoral process and our democracy!

Object of inserting the word ‘Socialist, Secular, Integrity’ in the Preamble was to spell out expressly the high ideas of socialism secularism and nationalism because the institutions have subsided to considerable stresses and strains...

भारत में 5 हजार की जनसंख्‍या वाला यहूदी नहीं, 20 करोड़ मुसलमान है अल्‍पसंख्‍यक

अल्‍पसंख्‍यकवाद की राजनीति भारत में केवल 70 से 80 हजार पारसी और बेहद कम, करीब 5 हजार यहूदी हैं। बौद्ध, जैन व सिखों की संख्‍या भी बहुत अधिक नहीं है, लेकिन अल्‍पसंख्‍यकवाद की राजनीति...

ताजा खबर