Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: Sita Mata

0

प्रेमी और पति राम – I

“एक बार चुनि कुसुम सुहाए, निज कर भूषन राम बनाए,सीतहिं पहिराए प्रभु सादर, बैठे फटिका सिला पर सुन्दर!” वनवास में सीता का ह्रदय श्रृंगार का हो रहा है और प्रभु मंद मंद मुस्करा रहे...

ताजा खबर
The Latest