महिषासुर दिवस- हिंदू धर्म की नाभि पर वामपंथियों का प्रहार!



Goddesss Durga
Rajeev Ranjan Prasad
Rajeev Ranjan Prasad

यह तर्क हास्यास्पद लग सकता है किंतु ठहरिये ऐसा है नहीं। कुछ विचारधारायें, कुछ संस्थायें, कुछ पत्रिकायें और कुछ व्यक्ति निरंतर ऐसे ही विश्लेषणों, तर्कों और दिवस आयोजनों के अगुआ बने हुए हैं। ध्यान रहे कि नास्तिक भी एक सम्प्रदाय ही हैं और जब वे आस्तिकों की आस्थाओं के साथ खेलना चाहते हैं तब वे साम्प्रदायिकता ही फैलाने का प्रयास कर रहे होते हैं। पिछले कुछ वर्षों से एक नया दिवस जवाहरलाल विश्व विद्यालय, नयी दिल्ली के कथित विचारकों के गर्भ से बाहर निकला है जिसे महिषासुर दिवस के नाम पर पूरी महिमा गरिमा के साथ मनाया जा रहा है।

वस्तुत: पुराने संदर्भों से कोई भी नयी खोज, नयी व्याख्या, पुनर्पाठ अथवा नव-विश्लेषण अनुचित नहीं हैं किंतु यदि आपकी दृष्टि वैज्ञानिक नहीं है तो फिर आपकी कल्पनाशीलता तो मिर्ची को भी मीठा और इमली को भी तीखा सिद्ध कर सकती है और इसके लिये किसी प्रमाण की आवश्यकता नहीं है। तथापि महिषासुर दिवस के नाम पर जो कुछ पुस्तकबद्ध किया गया है, पत्रिकाओं में प्रकाशित हुआ है एवं बहसों में जारी है उसपर विवेचना अवश्य होनी चाहिये।

पंचतंत्र की रंगा सियार कहानी को लाल श्रेणी के तर्कशास्त्रियों के दृष्टिकोण से देखें तो कई ज्वलंत सवाल खुजा-खुजा कर पैदा किये जा सकते हैं।

उदाहरण के लिये पंचतंत्र की कहानी विष्णु शर्मा द्वारा कही गयी अत: यह ब्राम्हणवाद का सजीव उदाहरण है। इस तरह की कहानियाँ समाज को बाँटती हैं और पंडितों का महिमा मण्डन करती हैं? यह कहानी समाज के अगडों को अर्थात कि राजपुत्रों को सिखाने पढाने के उद्देश्य से कही गयी है अंत: इन्हें खारिज कर देना चाहिये? इस कहानी में सर्वहारा सियार पूंजीपति तथा रसूखदार शेरों, बाघों और भालुओं से बच कर शहर गया तथा वहाँ कुत्तों द्वारा उसका शोषण प्रताड़न किया गया अंतत: उसके भीतर क्रांति का बीज प्रस्फुटित हुआ और उसने परिस्थिति का अपने पक्ष में फायदा उठाया तथा जंगल की व्यवस्था को बदल दिया।

इस तरह सियार वस्तुत: पहला क्रांतिकारी था जिसे रंगा और धूर्त कह कर उसके साथ अन्याय किया गया है, सदियों से होने वाले इस अन्याय के लिये शेरों-भालुओं को कभी माफ नहीं किया जाना चाहिये? बरसात के दिनों में सियार की सक्रियता अधिक रहती है और एक जुलाई तक पूरे भारत में मानसूस आ जाता है अत: प्रथम पशु-क्रांतिकारी को न्याय दिलाने के उद्देश्य से एक जुलाई का दिन रंगा सियार दिवस घोषित किया जायेगा। इस दिन पंचतंत्र की कहानियों का पुनर्पाठ होगा तथा बिटवीन द लाईन पढने के पश्चात कहानियों के वे अर्थ निकाले जायेंगे जो पिछले तीन हजार साल से कोई नहीं निकाल सका। सबसे जरूरी बात कि “रंगा सियार दिवस” का आयोजन शाम को ही होगा क्योंकि केवल दिन ढलने के पश्चात ही यह मासूम पशु सक्रिय होता है।

मिथक से कितना इतिहास निकाला जा सकता है? क्या मिथकों की वैसी ही विवेचना आज संभव है जैसा कि हजारों साल पहले उसका निहितार्थ था? ये दोनों ही प्रश्न आसान उत्तर नहीं रखते। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय फ्रेम प्रमोद रंजन के सम्पादन में कई किताबें महिषासुर पर प्रकाशित हुई हैं। अपनी संपादित ऐसी ही एक किताब “किसकी पूजा कर रहे हैं बहुजन – महिषासुर: एक पुनर्पाठ” के अपने सम्पादकीय में वे लिखते हैं कि महिषासुर के नाम से शुरु हुआ यह आन्दोलन क्या है? इसकी आवश्यकता क्या है? इसके निहितार्थ क्या हैं? यह कुछ सवाल हैं जो बाहर से हमारी तरफ उछाले जायेंगे। नहीं ये उछाले जाने वाले सवाल नहीं हैं अपितु लाख टके का प्रश्न है कि बाहरी कौन है और भीतरी कौन?

वे आगे लिखते हैं कि “हम एक मिथकीय नायक पर कहाँ खड़े हो कर नज़र डाल रहे हैं? एक महान सांस्कृतिक युद्ध में छलांग लगाने से पूर्व हमें अपने लांचिंग पैड़ की जांच ठीक से कर लेनी चाहिये।“ अर्थात नायक तो मिथकीय है लेकिन उसकी आड में इतिहास की ढाल को खडा कर एक युद्ध ठोस लड़ा जाना है? तो उछाला जाने वाला प्रश्न यह है कि क्या वास्तविक नायकों को सामने खड़ा कर वही युद्ध लड़े जाने में कोई बाधा है?

मैं आगे के आलेखों में फॉर्वर्ड प्रेस की भूमिका, महिषासुर के नाम पर प्रसारित की जाने वाली राजनीति में वाम-ईसाई सहसम्बंधों को साक्ष्य के साथ प्रस्तुत करने का प्रयास करूंगा। अभी यह दो सवाल आपके समक्ष छोड रहा हूँ पहला यह कि नाभी पर प्रहार “रावण को मारने के लिये” किया गया था, तो प्रमोद रंजन के इस बिम्ब की गहराई को समझिये जब वे “हिंदू धर्म की नाभि” पर प्रहार करने की बात कर रहे हैं। इस बिम्ब में राम अज्ञात नहीं है बस उनका लाल सलाम कर दिया गया है। मेरा दूसरा प्रश्न है कि केवल हिंदू धर्म की नाभी पर वामपंथियों को ही प्रहार क्यों करना है? (अगली कडी में जारी….)

URL: Why Left wing attack only on navel of Hindu religion

Keywords: Mahishasur Martyrdom Day, JNU, Left wing, anti hindu, hinduism, leftist attack on hindu religion, महिषासुर शहीद दिवस, जेएनयू, लेफ्ट विंग, एंटी हिंदू, हिंदूवाद, हिंदू धर्म पर वामपंथी हमले


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

Rajeev Ranjan Prasad
Rajeev Ranjan Prasad
राजीव रंजन प्रसाद ने स्नात्कोत्तर (भूविज्ञान), एम.टेक (सुदूर संवेदन), पर्यावरण प्रबन्धन एवं सतत विकास में स्नात्कोत्तर डिप्लोमा की डिग्रियाँ हासिल की हैं। राजीव, 1982 से लेखनरत हैं। इन्होंने कविता, कहानी, निबन्ध, रिपोर्ताज, यात्रावृतांत, समालोचना के अलावा नाटक लेखन भी किया है साथ ही अनेकों तकनीकी तथा साहित्यिक संग्रहों में रचना सहयोग प्रदान किया है। राजीव की रचनायें अनेकों पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं तथा आकाशवाणी जगदलपुर से प्रसारित हुई हैं। इन्होंने अव्यावसायिक लघु-पत्रिका "प्रतिध्वनि" का 1991 तक सम्पादन किया था। लेखक ने 1989-1992 तक ईप्टा से जुड कर बैलाडिला क्षेत्र में अनेकों नाटकों में अभिनय किया है। 1995 - 2001 के दौरान उनके निर्देशित चर्चित नाटकों में किसके हाँथ लगाम, खबरदार-एक दिन, और सुबह हो गयी, अश्वत्थामाओं के युग में आदि प्रमुख हैं। राजीव की अब तक प्रकाशित पुस्तकें हैं - आमचो बस्तर (उपन्यास), ढोलकल (उपन्यास), बस्तर – 1857 (उपन्यास), बस्तरनामा (विमर्श), दंतक्षेत्र (विमर्श), बस्तर के जननायक (शोध आलेखों का संकलन), मौन मगध में (यात्रा वृतांत), मैं फिर लौटूंगा अश्वत्थामा (यात्रा वृतांत), बस्तर- पर्यटन और संभावनायें (पर्यटन विषयक), तू मछली को नहीं जानती (कविता संग्रह), प्रगतिशील कृषि के स्वर्णाक्षर – डॉ. नारायण चावड़ा (जीवनी/ कृषि शोध), खण्डहर (नाटक)। राजीव को महामहिम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी द्वारा कृति “मौन मगध में” के लिये इन्दिरागाँधी राजभाषा पुरस्कार (वर्ष 2014) प्राप्त हुआ है। उनकी कृति “बस्तरनामा” को पर्यटन मंत्रालय के प्रतिष्ठित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार के लिये चयनित किया गया है। अन्य पुरस्कारों/सम्मानों में संगवारी सम्मान 2013, प्रवक्ता सम्मान (2014), साहित्यसेवी सम्मान (2015) मिनीमाताअ सम्मान (2016) आदि प्रमुख हैं।