Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

fashion trend: संसार ने फटी जींस के फैशन ट्रेंड को कबसे अलविदा कह दिया है

विपुल रेगे। अमिताभ की नातिन नव्या नवेली नंदा ने हाल ही में कहा है कि मैं अपनी जींस खुद फाड़ूंगी और ऐसा करते समय मुझे गर्व अनुभव होगा। फटी जींस का फैशन ट्रेंड विशेष रुप से बॉलीवुड की हस्तियों में बहुत प्रचलित हो रहा है। स्वयं को फैशन ट्रेंड्स में अव्वल समझने वाले ये फ़िल्मी सितारें क्या जानते हैं कि इस समय विश्व में फैशन ट्रेंड क्या चल रहा है। क्या बॉलीवुड को मालूम है कि फटी जींस पहनने का फैशन ट्रेंड कब का विदा हो चुका है। 

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने एक कार्यक्रम में कहा कि बेटियों को फटी जींस जैसे फैशन करने से बचना चाहिए। उनकी नज़र में फटी जींस पहनना महिलाओं के संस्कार नहीं हैं। इस बयान को अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या नवेली नंदा ने आड़े-हाथों लेते हुए कहा कि ये सलाह देने से पूर्व उनको अपनी मानसिकता बदलनी चाहिए।

तथाकथित नारी आंदोलन के संदर्भ में इस वक्तव्य का भावभीना स्वागत मीडिया ने किया है। तीरथ सिंह रावत ने एक सामान्य और सकारात्मक बयान दिया था। फटी जींस पहनना भारतीय संस्कृति में अभद्रता मानी जाती है।

पश्चिम का समाज उन्मुक्त है लेकिन भारत इतना खुला नहीं है कि अपने घर की महिलाओं के अंग-प्रत्यंग का प्रदर्शन फटी जींस के द्वारा होने दे। ऐसा क्यों है कि एशिया के इस विकासशील देश को विश्व के फैशन ट्रेंड्स की जानकारी ही नहीं होती है।

आश्चर्य की बात है कि शेष विश्व में फटी जींस पहनने का ट्रेंड पिछले वर्ष के अंत में ही विदा हो चुका है। उल्लेखनीय है कि संपूर्ण विश्व का फैशन ट्रेंड इटली तय करता है।  फैशन ट्रेंड सेट करने वाले देशों में इटली के बाद स्पेन, फ़्रांस और अमेरिका का नाम आता है। इटली के नामी-गिरामी तेरह ब्रांड ही दुनिया को फैशन सिखाते हैं। इनमे गुची, वरसाचे और अरमानी जैसे ब्रांड फैशन ट्रेंड्स का प्रतिनिधित्व करते हैं।

भारत इस सूची में कहीं नहीं आता। उसका कारण ये है कि हम पचास के दशक से फैशन के मामले में पश्चिम की नकल ही करते चले आ रहे हैं। हमने कभी अपना ट्रेंड बनाने  की कोशिश की नहीं की। सन 2021 में जींस के कुछ नए ट्रेंड्स आए हैं, जो एक या दो वर्ष तक प्रभावी रहेंगे। इनमे महिलाओं के लिए ’90s Boot Cut, Biodegradable Denim, Undone Hems, Baggy Jeans, 70s Flare, Pleated ’80s Denim प्रमुख हैं।

जब ये ट्रेंड्स लगभग पुराने पड़ चुके होंगे, तब भारत का कोई फैशन डिजाइनर इनको कॉपी कर बाजार में उतारेगा। उसके बाद ये फैशन स्टाइल फ़िल्मी सितारों के माध्यम से भारत में नया फैशन स्टाइल बनेगा।

तब तक पश्चिम दूसरे फैशन का अनुसरण करने लगेगा। अब तो हममें ये समझ भी समाप्त हो चुकी है कि भारतीय परिवेश के अनुसार कौनसा फैशन स्टाइल हमें अपनाना चाहिए। फटी हुई जींस पहनकर घर से निकलना अत्यंत अशोभनीय कृत्य है।

ये पहनावा केवल युवाओं और मनोरंजन उद्योग में ही अधिक प्रचलन में है। फटी हुई जींस पहनकर कोई अपने ऑफिस तो नहीं जा सकता है। महिलाओं की तरह ही सन 2021 के पुरुष फैशन में डेनिम कुछ पुराने ट्रेंड के साथ वापस आ रहा है। इस वर्ष डेनिम में ब्लू की अधिकता देखने को मिलेगी। डेनिम अपने बेसिक कलर में विभिन्न शेड्स के साथ आने जा रही है।

इनमे  Raw indigo denim, Workwear, Baggy Trousers, Slim Cuts, Raw On Top, High-Rise प्रमुख है। पुरुषों के लिए नब्बे के दशक और सत्तर के दशक के फैशन स्टाइल की वापसी हो रही है। इनमे  High-Rise तो चालीस और पचास के दशक का ट्रेंड है। जींस की दुनिया सन 2021 में बदल चुकी है लेकिन हमारे बॉलीवुड स्टार्स अब तक फटी जींस पर ही अटके पड़े हैं।

बाकी ये तो कहना होगा कि आने वाले ये ट्रेंड बड़े दिलकश हैं। और एक सुकून है कि भारत को छोड़ बाकी दुनिया ने फटी जींस को विदा कह दिया है। अब कुछ वर्षों तक ये अशोभनीय ट्रेंड वापस नहीं आएगा।

Join our Telegram Community to ask questions and get latest news updates
आदरणीय पाठकगण,

ज्ञान अनमोल हैं, परंतु उसे आप तक पहुंचाने में लगने वाले समय, शोध, संसाधन और श्रम (S4) का मू्ल्य है। आप मात्र 100₹/माह Subscription Fee देकर इस ज्ञान-यज्ञ में भागीदार बन सकते हैं! धन्यवाद!  

Select Subscription Plan

OR

Make One-time Subscription Payment

Select Subscription Plan

OR

Make One-time Subscription Payment



Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Branch: GR.FL, DCM Building 16, Barakhamba Road, New Delhi- 110001
SWIFT CODE (BIC) : HDFCINBB
Paytm/UPI/Google Pay/ पे / Pay Zap/AmazonPay के लिए - 9312665127
WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9540911078

Vipul Rege

Vipul Rege

पत्रकार/ लेखक/ फिल्म समीक्षक पिछले पंद्रह साल से पत्रकारिता और लेखन के क्षेत्र में सक्रिय। दैनिक भास्कर, नईदुनिया, पत्रिका, स्वदेश में बतौर पत्रकार सेवाएं दी। सामाजिक सरोकार के अभियानों को अंजाम दिया। पर्यावरण और पानी के लिए रचनात्मक कार्य किए। सन 2007 से फिल्म समीक्षक के रूप में भी सेवाएं दी है। वर्तमान में पुस्तक लेखन, फिल्म समीक्षक और सोशल मीडिया लेखक के रूप में सक्रिय हैं।

You may also like...

Write a Comment