कश्मीर के पत्थरबाजों और अलगाववादियों को श्री श्री रविशंकर पढ़ाएंगे अहिंसा का पाठ !

photo-courtsy-by

आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद से सुलगती कश्मीर घाटी के जख्मों में मरहम लगाने के लिए आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर प्रयासरत है। आपको बता दूं कि आपको बता दूं की पिछले दो महीनों से कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी और आगजनी की अनेकों घटनायें हुई है,अलगाववादियों ने कश्मीर के सत्ताईस स्कूलों को आग के हवाले कर दिया था।

आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक व अध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर जम्मू के अभिनव थियेटर में 23 नवंबर को कश्मीर मे शांति व व्यवस्था बहाली के लिये आयोजित होने वाले बडे सम्मेलन को प्रमुख वक्ता के तौर पर संबोधित करेंगे ,इस कार्यक्रम में गृह राज्यमंत्री किरण रिजूजू मुख्य अतिथि होंगे। विश्वभर में शांति के लिये प्रयासरत्त श्री श्री रविशंकर ने कश्मीर में शांति बहाल करने के लिये भारत सरकार, अलगाववादी नेताओ और राज्य की उन्नति को उत्सुक सभी पक्षो से बात की है। आतंकवादी नेता बुरहान वानी के पिता मुजफ्फर वानी इसी वर्ष सितम्बर में श्री श्री के बैंगलोर आश्रम में जा कर उनसे मिले थे और कश्मीर की समस्या के स्थायी समाधान पर विचार विमर्श भी किया था।

इस सम्मेलन में बड़ी संख्या में पूर्व उग्रवादी, पत़्थरबाजी करने वाले गुमराह बच्चे,आतंक के शिकार युवा, महिला,कश्मीर के गैर सरकारी संगठनों से जुड़े लोग, शिक्षाविद आदि वर्तमान स्थिती पर अपने अनुभव साझा करने के साथ ही शांतिपुर्ण समाधान के लिये अपने विचार भी रखेंगे ।

आर्ट ऑफ लिविंग के पीस इनेशेटीव के निदेशक संजय कुमार पिछले डेढ दशक से घाटी के युवाओ को हिंसा छोड़ अहिंसा के मार्ग पर ले जाने के लिये आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा लगातार कार्यशाला आयोजित कर रहे है। कश्मीर में पिछले एक वर्ष में जलाये गये लगभग 27 विद्यालयों के पुर्ननिर्माण की जिम्मेवारी आर्ट ऑफ लिविंग ने उठाने की भी घोषणा की है।

Comments

comments



Be the first to comment on "सुनो कुछ तो कहता है गोधरा?"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*