Watch ISD Live Now   Listen to ISD Podcast

Category: जातिवाद / अवसरवाद

0

पहले संविधान से जाति हटाओ, फिर सवर्ण समाज भी जाति छोड़ देगा!

संदीप देव। संविधान में जाति है, नेता अपनी जाति पर वोट मांगते हैं, देश में जातिगत आरक्षण है, राष्ट्रपति तक के चुनाव में जाति का आधार देखा जाता है? बस सवर्ण समाज से सब...

0

बिहार में भूमिहार अचानक से सबसे ज्यादा चर्चा में क्यों हैं? हर पार्टी की बढ़ गई है दिलचस्पी

अगले महीने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बिहार के दौरे पर जा रहे हैं. कार्यक्रम स्वामी सहजानंद सरस्वती की जयंती का है. लेकिन माना ये जा रहा है कि इस कार्यक्रम के बहाने नाराज चल...

0

बौद्ध v/s भाजपा

सारा कुमारी। नुकसान सनातन धर्म का, कभी बौद्धों ने किया था, वही भयंकर हानि अभी की केन्द्र भाजपा सरकार पहुंचा रहीं है। । बौद्ध हिंदुओं को अक्षत्रिय, भीरु, कायर, डरपोक, शस्त्र और शास्त्र विहिन...

0

ब्लैकमेल

सारा कुमारी। ( ब्लैकमेल )अब तो लगभग सभी  बीजेपी और RSS के बडे़ बडे़ नेता और पदाधिकारियों के इस्लाम के फेवर में बयान या फिर दरगाह पर जा कर चादर चढ़ाते हुए, तस्वीरे और...

0

हिंदुओं के पक्ष में, भाजपा विपक्ष में!

संदीप देव । हिंदुओं को किसी पार्टी, व्यक्ति की जगह केवल अपने मुद्दों पर फोकस करना चाहिए जैसे म्लेच्छ करते हैं। इसलिए हर पार्टी व नेता म्लेच्छों की चाकरी करता है। भाजपा विपक्ष में...

0

SC/ST Act का बढ़ता दुरुपयोग और सवर्ण/OBC समाज की चुप्पी!

संदीप देव । Sc/ST Act की फांस सवर्णों और OBC पर लगातार बढ़ती जा रही है! कोई सुनने वाला नहीं, क्योंकि संविधान, सरकारें, पार्टियां, नेता, प्रशासन, कानून- सब जातिवादी हैं! सुप्रीम कोर्ट और विभिन्न...

0

भारत का एक भी University दुनिया के Top 100 में क्यों नहीं है? आप जानते हैं?

संदीप देव। दुनिया के University में टॉप 100 में ताइवान, सिंगापुर, कोरिया जैसे छोटे आकार के देशों की University है, लेकिन हमारा कोई भी IIT, IIM या विश्वविद्यालय क्यों नहीं है? आप जानते हैं...

0

कटिहार ट्विटर पर क्यों ट्रेंड कर रहा है !

अर्चना कुमारी । बिहार का जनाधार विहीन नेता नीतीश कुमार प्रधानमंत्री बनने के सपने देख रहे हैं लेकिन उनके राज्य के कटिहार ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तेजस्वी को सत्ता...

0

दिल्ली दंगे में उमर खालिद आरोप मुक्त, लेकिन हिंदू समाज चुनाव में है बिजी!

संदीप देव । दिल्ली दंगे में आरोपी सफूरा जरगर को जमानत दिलाने में जब मैंने अप्रत्यक्ष रूप से भारत सरकार का हाथ बताया था तो मास्टरस्ट्रोकवादियों ने मुझ पर हमला किया था। मेरे इस...

0

नवबौद्धों का ‘बाइबिल’ The Buddha & His Dhamma!

संदीप देव । नव बौद्ध धम्म का आधार डॉ बी.आर. आंबेडकर की यही पुस्तक है। मूल रूप से यह 1957 में अंग्रेजी में ‘The Buddha & His Dhamma’ नाम से प्रकाशित हुई थी। इस...

0

ईसाई मिशनरियां बेलगाम: भारत में मिशनरी संगठनों के धर्मांतरण अभियान में निशाने पर दलित-आदिवासी

[ शंकर शरण ]: धर्मांतरण में लिप्त 13 गैर सरकारी संगठनों की विदेशी फंडिंग के लाइसेंस निलंबित किए जाने के गृह मंत्रालय के फैसले के बाद संसद के मानसून सत्र के पहले ही दिन सांसद संजय सेठ...

0

ब्राह्मण और जाति प्रथा पर दुष्ट बुद्धि ईसाइयों का नियोजित आक्रमण-1

प्रो. रामेश्वर मिश्र पंकज । जवाहरलाल नेहरू जी से प्रारंभ की गई और अटल बिहारी वाजपेयी तथा नरेन्द्र मोदी जी के शासन में निरंतर मानविकी विद्याओं में जारी कथित पढ़ाई (वस्तुतः झूठा प्रोपेगंडा और...

0

हिंदुओं को जातियों में बांटने का कुचक्र और भाजपा!

संदीप देव । स्वतंत्र भारत में B. P. Mandal की अध्यक्षता में 1978 में कमीशन का निर्माण( जनता पार्टी व जनसंघ वाली मोरारजी सरकार) और 1990( जनता पार्टी व भाजपा के सहयोग वाली वीपी...

0

ब्रह्मेश्वर मुखिया जिन्हें बिहार के लोग आज भी याद करते हैं !

अर्चना कुमारी। आजादी के 75 साल बीतने के बावजूद बिहार की राजनीति जाति के इर्द-गिर्द घूमती रही हैं । आज भी सत्ता उन्हीं को हासिल होता है, जिन के पक्ष में ज्यादा से ज्यादा...

0

भूमिहार समाज से बिहार भाजपा के पहले नेता प्रतिपक्ष बने विजय सिन्हा!

श्री विजय सिन्हा को बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बनने पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ ।आप भूमिहार समाज से भाजपा के पहले नेता प्रतिपक्ष बने हैं और बिहार के विधायी इतिहास में तीसरे नेता...

0

नव-बौद्ध आंदोलन का पुनर्मूल्यांकन

हिंदू धर्म की उन्नति बौद्ध धर्म के प्रतीकों को एक अवशिष्ट स्थान छोड़ देती है और इसकी क्रांतिकारी क्षमता को कम कर देती है। भारत में बौद्ध धर्म के अनुयायी 14 अक्टूबर 1956 तक...

0

सबसे बड़ा दलित आज ब्राह्मण है!

अज्ञात। आज के जमाने में असली दलित ब्राह्मण हैं। फ्रांसीसी पत्रकार फ्रांसिस गुइटर की रिपोर्ट बताती है कि ब्राह्मण समाज आज सबसे अधिक पिछड़ा है। इस रिपोर्ट के मुख्य बिंदु निम्नलिखित हैं : दिल्ली...

0

बिहार: ब्राह्मण परिवार के 5 लोग फांसी के फंदे पर झूल गये , इनकी जाति की जनगणना कैसे करायेंगे CM नीतीश कुमार ?

बिहार में सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों एक सुर में जाति के आधार पर जनगणना कराने को लेकर सहमत है. जिसके लिए बिहार सरकार 500 करोड़ खर्च करने जा रही है. लेकिन जहां सरकार...

0

यह नव अंबेडकर पंथ है, बौद्ध धर्म कदापि नहीं!

रामेश्वर मिश्रा पंकज। डॉ भीमराव आंबेडकर कुल65 वर्ष 7 माह 23 दिन जीवित रहे। उसमे से 65 वर्ष 6 माह वे सनातन धर्म के अनुयायी रहे। कुल1 माह 23 दिन वे बौद्ध रहे। बौद्ध...

0

इन उच्च जातियों में ऊँचा क्या है ? संविधान जवाब दे!

प्रश्न ये है की ब्राह्मणो को किस आधार पर ऊँची जाती वाला बोल कर सुविधाओं से वंचित किया जा रहा है । आज के दौर में ऐसा क्या है कि ब्राह्मण जाति में जो...

ताजा खबर