Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Category: सनातन हिंदू धर्म

0

विष्णु स्तंभ की अत्यंत रोचक जानकारी जो हर सनातनी को जानना चाहिए !

विक्रम वर्मा । 21 जून, जब साल का सबसे बड़ा दिन होता है, तो विष्णु_स्तंभ की छाया 12 बजकर 16 मिनट में धरती पर नजर नहींं आती। कारण ? दिल्ली 28.5 डिग्री अक्षांश पर...

0

केले का पत्ता और भगवान श्रीराम व हनुमान!

श्वेता पुरोहित। जब रावण की सेना को हराकर और सीता जी को लेकर श्री रामचंद्र जी वापस अयोध्या पहुँचे तो वहाँ उस खुशी में एक बड़े भोज का आयोजन हुआ। वानरसेना के सभी लोग...

0

विश्व योग दिवस पर विशेष… योगष्चित्तवृत्ति निरोध: अर्थात् चित्त की वृत्तियों का निरोध ही योग है।

विकास थपलियाल। महर्षि पतंजलि-‘योगष्चित्तवृत्तिनिरोध:’ यो.सू.1/2अर्थात् चित्त की वृत्तियों का निरोध करना ही योग है। चित्त का तात्पर्य, अन्त:करण से है। बाह्मकरण ज्ञानेन्द्रियां जब विषयों का ग्रहण करती है, मन उस ज्ञान को आत्मा तक...

0

भाग 2 : सनातन धर्म को समाप्त करने वाले षड्यंत्रकारी हमारे देश में ही छुपे बैठे हैं

१५० भारतीयों की यह सूची “आधिकारिक” है जिसे फ्रीमैसनों की भारतीय संस्था ने ही जारी की थी।

0

सर्वे का दूसरा दिन था…

पारस जैन। सर्वे टीम वजूखाने के पास पहुंची जहाँ वजू खाने में लबालब पानी भरा हुआ था जैसे ही वजू खाने की जांच की बात हुई तो मुस्लिम पक्ष थोड़ा विरोध करने लगा, ध्यान...

0

यमाष्टक – यमराज का अपने दूत के प्रति उपदेश !

श्वेता पुरोहित। श्रीव्यास जी बोले – अपने किंकर को हाथ में पाश लिये कहीं जाने को उद्यत देखकर यमराज उसके कान में कहते हैं—“दूत! तुम भगवान् मधुसूदन की शरण में गये हुए प्राणियों को...

0

भगवान का रूप इतना सुन्दर क्यों होता है ?

राजकुमार अशोक मिश्रा । ऐसा माना जाता है कि सभी दिव्य गुणों और भूषणों—मुकुट, किरीट, कुण्डल आदि ने युग-युगान्तर, कल्प-कल्पान्तर तक तपस्या कर भगवान को प्रसन्न किया। भगवान बोले—‘वर मांगो।’ गुणों और आभूषणों ने...

0

श्री पद्मपुराण के स्वर्ग खण्ड में काशी के अविमुक्त क्षेत्र का महादेव द्वारा वर्णन

नमामि गोविन्दपदारविन्दं सदेन्दिरानन्दनमुत्तमाढ्यम् ।जगञ्जनानां हृदि संनिविष्टं महाजनैकायनमुत्तमोत्तमम् ॥ मैं भगवान् विष्णुके उन चरणकमलोंको भक्तिपूर्वक प्रणाम करती हूँ, जो भगवती लक्ष्मीजी को सदा ही आनन्द प्रदान करनेवाले और उत्तम शोभासे सम्पन्न हैं, जिनका संसारके प्रत्येक...

0

मंदसौर निवासी शेख जफर कुरैशी ने स्वामी चिदम्बरानन्द सरस्वती जी की के समक्ष सनातन धर्म में घर वापसी की।

घर वापसी से पहले मुझसे जफर जी की बात हुई थी। उनसे मेरी पहचान भाई विशाल शर्मा ने कराई थी। जफर ने बताया था कि किस तरह से सनातन धर्म के प्रति बचपन से...

0

कुरुक्षेत्र का भीष्म कुंड! यहीं भीष्म पितामह ने युधिष्ठिर को सुनाया था विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र।

यह कुरुक्षेत्र का भीष्म कुंड है। महाभारत युद्ध के १०वें दिन अर्जुन के वाण से आहत होकर भीष्म पितामह भूमि पर गिरे। बीच रणभूमि से हटाकर उनकी वाणों की शैया को इसी स्थान पर...

0

श्री कामेश्वर महादेव अद्भुत आध्यात्मिक भव्य यात्रा !

डॉक्टर विनीत अवस्थी । अद्भुत, आशातीत व अकल्पनीय होता है वह अनुभव जब वह अगम अनादि मंद हास्य करते हुए एक अदृश्य डोर से आपको वहां खींच कर खड़ा कर दे जिसकी आपने कभी...

0

परमकल्याण के कारक शनिदेव

श्वेता पुरोहित । शनिदेव परमकल्याण कर्ता न्यायाधीश और जीव का परमहितैषी ग्रह माने जाते हैं। ईश्वर पारायण प्राणी जो जन्म जन्मान्तर तपस्या करते हैं, तपस्या सफ़ल होने के समय अविद्या, माया से सम्मोहित होकर...

0

श्रीहरि भगवान के गोविन्दा नाम का रहस्य !

श्वेता पुरोहित । एक अत्यंत रोचक घटना है, माँ महालक्ष्मी की खोज में भगवान विष्णु जब भूलोक पर आए, तब यह सुंदर घटना घटी। भूलोक में प्रवेश करते ही, उन्हें भूख एवं प्यास मानवीय...

0

श्री विष्णु सहस्रनाम मंत्र और इसके लाभ

कई बार हम इन समस्याओं से काफी परेशान हो जाते हैं। धर्म ग्रंथों में इन परेशानियों से बचने के लिए अनेक उपाय बताए गए हैं। ऐसा ही एक उपाय है विष्णु सहस्त्रनाम का जाप।...

0

काशी विश्वनाथ धर्म युद्ध का एक बड़ा योद्धा!

आज ज्ञानवापी परिसर के अंदर जो हमारा ही तीर्थक्षेत्र अविमुक्तेश्वर विश्वेश्वर का आदि स्थान और ज्ञानोद तीर्थ की पवित्र भूमि है। विध्वंस और आलगीर मस्जिद का अस्तित्व हमारे तीर्थ की सत्यता पर भारी आखिर...

0

ज्ञॉनवापी मुद्दे पर जिस इतिहास के रथ पर चढ़ने का प्रयास हो रहा है. वो रथ और उसका वाहक व्यास परिवार ही है

“माना की मेरा घर जमींदोज करने में तुम सफल हो गए ! हमारा मन्तव्य बीच में ही लड़खड़ा गया ! तुम्हारे जुल्मों के खिलाफ मैं अकेला हूं, मगर फैसला अभी कुरूक्षेत्र के मैदान में...

0

भारत के 13 बड़े संग्राम, जिनसे बदल गया हिन्दुस्थान

अनिरुद्ध जोशी ‘शतायु’ प्राचीन जम्बूद्वीप से लेकर आज का हिन्दुस्तान संपूर्ण क्षेत्र हिन्दुस्थान था अर्थात हिन्दुओं का स्थान। इस क्षेत्र में भारतवर्ष के भारतीयों ने कई बड़े युद्ध और संघर्ष झेले हैं। हिन्दू इन...

0

भगवान नरसिंह के प्रकाट्य दिवस पर स्वामी नरसिंहानंद जी से भेंट!

भगवान विष्णु के क्रोधावतार थे भगवान नरसिंह देव। भगवान नरसिंह प्रकट उत्सव पर धर्मपत्नी Shweta Deo के साथ आज डासना गया और मां एवं महादेव का आशीर्वाद लिया। आधुनिक समय में स्वामी नरसिम्हानंद गिरी...

0

भगवान नरसिंह देव के प्रकटीकरण दिवस पर जानिए कि उन्होंने कहां मारा था हिरण्यकशिपु को! और वो स्थान आज कहां है?

भगवान विष्णु के चतुर्थ अवतार भगवान नरसिंह देव के प्रकटोत्सव पर सभी सनातनियों को ढेर सारी शुभकामनाएं। भगवान नरसिंह ने वैशाख माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि पर प्रकट होकर भक्त प्रह्लाद की रक्षा...

0

ॐ नमः शिवायः रावण कृत शिव तांडव स्तोत्र अर्थ सहित।

जटाटवीग लज्जलप्रवाहपावितस्थलेगलेऽवलम्ब्यलम्बितां भुजंगतुंगमालिकाम्‌। डमड्डमड्डमड्डम न्निनादवड्डमर्वयंचकार चंडतांडवं तनोतु नः शिवः शिवम ॥1॥ सघन जटामंडल रूप वन से प्रवाहित होकर श्री गंगाजी की धाराएँ जिन शिवजी के पवित्र कंठ प्रदेश को प्रक्षालित (धोती) करती हैं, और...

ताजा खबर