Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Category: सनातन हिंदू धर्म

0

आप भी समझें अपने मन को : विश्व में बढ़ते डिप्रेशन का कारण, सुसाइड की घटनाएं तथा सनातन हिन्दू दर्शन में इसका व्यावहारिक समाधान !

आदित्य जैन। वर्तमान में वैश्विक पटल पर युवा वर्ग और प्रौढ़ वर्ग दोनों ही  चिंता , तनाव , क्रोध , बेचैनी आदि से ग्रसित है । काम में मन न लगना , आलस्य में...

0

हॉलीवुड मूवीज एवम् भारतीय ग्रंथ का अद्भुत संबंध! आखिर विष्णु और ललिता के हज़ार नाम क्यों हैं? तथा मन को विस्मय से भरने वाले कुछ प्रश्न!

आदित्य जैन। हॉलीवुड की मैट्रिक्स मूवी देखी है? अभी 2021 में फोर्थ सीक्वल आने वाला है? INCEPTION देखी है? नहीं देखी? ब्रह्माण्ड के रहस्यों को, डार्क मैटर, ब्लैक होल आदि अवधारणाओं को दूसरे शब्दों...

0

भारत भूमि की असली पहचान – साधना, साहस, सेवा, सत्संग : आइए समझें सनातन के चार शब्द!

आदित्य जैन। भाव – राग – ताल की शरणस्थली भारत की पहचान क्या है ? राजा दुष्यंत और शकुंतला के पुत्र भरत का भारत , चक्रवर्ती सम्राट ऋषभ देव के पुत्र भरत का भारत,...

0

मर्यादाविहीन राष्ट्र विरोधियों की जंघा भीम की तरह ही तोड़ दो : महाभारत की सीख

आदित्य जैन। भीम ने दुर्योधन की जंघा तोड़ी थी । क्योंकि दुर्योधन की जंघा तोड़ी ही जानी चाहिए थी। दुर्योधन ने द्रौपदी को अपमानित किया था। दुर्योधन ने अभिमन्यु की छल से हत्या की...

0

किसी भी समस्या के समाधान का सनातन मॉडल

आदित्य जैन. मार्क्सवाद , वामपंथ , माओवाद , नारीवाद , आधुनिक उदारवाद , उत्तर आधुनिकतावाद का छलावा कुछ वैसा ही है , जैसे रेगिस्तान में चमकती रेत पर पानी के तालाब का अहसास होना...

2

श्री राम को मृत्यु से बचाने वाले गुरु वशिष्ठ जी का अद्भुत प्रसंग और सनातन गुरु परंपरा के कुछ विशिष्ट पन्ने!

आदित्य जैन। महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने A Brief History of Time नामक पुस्तक लिखी । क्या आपने यह पुस्तक पढ़ी है ? इस महान वैज्ञानिक से हज़ार साल पहले आचार्य कुंदकुंद ने Essence...

0

महाकाल शिव के तांडव का महापंडित रावण और महर्षि पतंजलि से अनसुना संबंध!

आदित्य जैन। आपकी रुचि संस्कृत में है क्या? या आपकी रुचि संगीत में है? या आपकी रुचि इस बात को समझने में है कि महान काव्यों की रचनाएं कैसे हुई? या आप कुछ नया...

0

कोरोना महामारी के शमन के लिए काशी में 400 वर्षों उपरांत जनपदोध्वंस रक्षा अभिषेक एवं यज्ञ का आयोजन

विश्व में फैली कोरोना महामारी के शमन के लिए ब्रह्म सेना की ओर से काशी में “जनपदोध्वंस रक्षा अभिषेक” का आयोजन 24 मई 2021 दिन सोमवार (प्रदोष तिथि )को अनादि तीर्थ दशाश्वमेध घाट पर...

0

काशी खण्ड में विश्वेश्वर का पूजन क्रम।

अजय शर्मा, वाराणसी। सचैलमादौ संस्नाय चक्रपुष्करिणीजले।सन्तर्प्य देवान् सपितृन् ब्रह्माणाश्च तथार्थिनः।। आदित्यं द्रौपदीं विष्णुं दण्डपाणिं महेश्वरम्।नमस्कृत्य ततो गच्छेद्द्रष्टुं ढुण्ढिविनायकम्।। ज्ञानवापीमुपस्पृश्य नन्दिकेशं ततो अर्चयेत्।तारकेशं ततोभ्यर्च्य महाकालेश्वरं ततः।। ततः पुनर्दण्डपाणिमित्येषा पंचयतीर्थिका।दैनन्दिना विधातव्या महाफलमभीप्सुभिः।। मणिकर्णिका में स्नान ,...

0

भगवान महावीर के सिद्धांत विश्व कल्याणकारी: विनायक राव देशपांडे-विहिप

अर्चना कुमारी। नई दिल्ली। अप्रैल 25, 2021। विश्व हिन्दू परिषद भगवान महावीर के जीवन व शिक्षाओं से प्रेरणा ही आगे बढ़ रहा है। विहिप के केन्द्रीय संगठन महामंत्री श्री विनायक राव देशपांडे ने आज...

0

महागौरी– माता का आठवाँ रूप

क्या है त्रिशूल, वृषभ, डमरू आदि का वास्तविक अर्थ? आरंभ में एक बार माता के पहले के सात प्रतीकात्मक रूपों का पुनर्स्मरण कर लेना विषयवस्तु को समझने हेतु समीचीन होगा– पहला रूप–शैलपुत्री – हमारे...

0

‘प्रतीकों में महाकाली’ माता का सातवाँ रूप

कमलेश कमल अब तक सिंह की सवारी करने वाली माता अब क्यों है गर्दभ पर सवार? ‘काल’ समय को कहते हैं और मृत्यु को भी। सनातन कहता है कि काल(समय) ही काल(मृत्यु) है। यह...

0

‘शक्ति-साधना और आज्ञाचक्र की वैज्ञानिकता’ माता कात्यायनी (आदि शक्ति का छठा रूप)

कमलेश कमल. पराम्बा शक्ति पार्वती के नौ रूपों में छठा रूप कात्यायनी का है। अमरकोष के अनुसार यह पार्वती का दूसरा नाम है। ऐसे, यजुर्वेद में प्रथम बार ‘कात्यायनी’ नाम का उल्लेख मिलता है।...

0

स्कंदमाता (माता का पञ्चम रूप)

कमलेश कमल. माँ शेर पर सवार हैं– क्या इसका कोई प्रयोजन है? क्या ‘शिव-कंठ’ के ‘नीले’ होने का इस साधना से भी कोई संबंध है? या देवी सर्वभूतेषु मातृ रूपेण संस्थिता।नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो...

0

राहुल सांकृत्यायन की तिब्बत यात्रा!

हमारे गले में धूल भर गई। कमरे का फर्श एक इंच मोटी धूल की परत से ढंका हुआ था। धूल की परतें हटाने पर मेरी नजर वहां रखी तालपत्र की पांडुलिपियों पर पड़ी। धर्मकीर्ति...

1

“माँ की पूजा का विज्ञान” कूष्मांडा : माँ का चौथा रूप

कमलेश कमल. माता को शक्ति कहते हैं। शक्ति (power) कार्य करने की क्षमता(ability) का नाम है:- (power=work/time)। भौतिकी का नियम है कि ऊर्जा(energy) जितनी अधिक होगी, कार्य उतना अधिक संपन्न होगा। संक्षेप में शक्ति(दुर्गा)...

0

चंद्रघण्टा ( माँ का तीसरा रूप)

कमलेश कमल. यह सृष्टि-चक्र शक्ति-चक्र ही है। सृष्टि का प्रत्येक प्राणी चाहे देव हो, ऋषि हो, मनुष्य हो, पशु हो या पक्षी– सबमें शक्ति है या सब इसी शक्ति की साधना या शक्ति के...

1

कुम्भ और तबलीगी जमात में कोई तुलना ही नहीं है

Sonali Misra, Noida | कोरोना की दूसरी लहर इस समय कहर ढा रही है। हर राज्य ने अपने लिए नियम बनाए हुए हैं। मगर इन दिनों चूंकि हरिद्वार में कुम्भ का मेला चल रहा...

0

चैत्र नवरात्र से ही भारतीय नववर्ष आरंभ होता है।

कमलेश कमल | ब्रह्मचारिणी : (माँ का दूसरा रूप ) नवरात्र वर्ष में चार बार आता है। इनमें चैत्र और आश्विन मास के नवरात्र का विशेष महत्त्व है। चैत्र नवरात्र या वासंती नवरात्र से...

0

क्या सच ही अंगद ने सीता को हारने की शर्त रख दी थी?

कमलेश कमल | मानस के कुछ प्रसंग जिनको लेकर शंका या विवाद की संभावना रहती है, उनमें एक के केंद्र में अंगद का यह अभिकथन है-“जौं मम चरन सकसि सठ टारी। फिरहिं रामु सीता...

ताजा खबर
TRENDING ARTICLES