Watch ISD Videos Now Listen to ISD Radio Now

Category: इतिहास

0

संसार का सबसे बड़ा हरम, जहाँ घोड़े से सस्ती बिकती थी लड़कियां!

हरम! हमारे सामने जैसे ही हरम का नाम आता है, उसे लेकर पश्चिमी इतिहासकारों में हमेशा से ही एक आकर्षण रहा है। यह आकर्षण इतना ज्यादा है कि इसी बात पर मुगल सुल्तानों को...

1

हिन्दुओं में लड़की ब्याहने पर मिलेगा मृत्युदंड – जहाँगीर

इतिहास में गंगा जमुना तहजीब के चलते कई झूठी बातों को हमें घुट्टी के रूप में पिलाया गया है। जहाँगीर (real name Nur-ud-din Muhammad Salim) को हिन्दुओं के प्रति अति न्यायप्रिय घोषित किया है,...

0

गांधी नहीं बल्कि सुभाष चंद्र बोस ने दिलाई थी देश को आजादी, अंबेडकर ने बी बी सी के साथ अपने एक पुराने इंटरव्यू में ऐसा कहा

जब भारत पर से अंग्रेज़ी शासन हटने की बात आती है, तो अधिकांश लोगों के ज़ेहन में गांधी की छवि उतर आती है. और ऐसा होना लाज़िमी भी है. जितनी भी स्कूली पुस्तकों में...

2

उन्होंने नफरतें बांटीं और सेक्युलर्स ने उन नफरतों को प्यार बताया!

इन दिनों एक नया चलन चला है कि जैसे ही कोई हिन्दू त्यौहार आता है वैसे ही सेक्युलर लेखक एवं पत्रकार एक नई थ्योरी गढ़ने लगते हैं कि यह त्योहार तो मुगल काल से...

6

जन्माष्टमी विशेष :द्वारिका समुद्र में खुलने वाला आर्यावर्त का वास्तविक द्वार है

वे महाराज रैवतक थे, जिन्होंने सबसे पहले समुद्र से भूमि छीनकर ‘कुशस्थली’ का निर्माण किया। यहाँ समुद्र छीनने से अभिप्राय है कि उन्होंने वैज्ञानिक प्रक्रिया से भूमि अधिग्रहण किया। विष्णु पुराण और हरिवंशपुराण से...

1

रविवार विशेष : बस पृथ्वी ही जानती है फल्कानेली का रहस्य

जब सन 1940 में जर्मनी का वैज्ञानिक वार्नर हैसिनबर्ग नाभिकीय विखंडन पर काम कर रहा था और सफलता के करीब ही था। हिटलर को हैसिनबर्ग से बहुत आशाएं थी। जून की गर्मियों में एक...

5

जन कवि तुलसी और विमर्श पोषित दरबारी रहीम

हम लोग बचपन से सुनते चले आए हैं कि यह देश राम और रहीम का देश है। रहीम के दोहे जब हमारी पुस्तकों में पढ़ाए गए तो हम लोगों की जुबां पर चढ़ गए...

0

साधु, मिशनरी, नफरत और वेरियर एल्विन

उन्होंने घेर लिया था और लाठी डंडों से लैस भीड़ ने उन दो साधुओं का क़त्ल कर दिया और फिर साधुओं से मुक्त होने पर जश्न मनाया होगा.  यह जो साधुओं से मुक्त होने...

1

शेर के मुंह से निकलती है सिंधु नदी

नदियां न होती तो भारत न होता, वैदिक संस्कृति न होती और सनातन भी न होता। जब तक नदियां प्रवाहमान हैं, तब तक भारत भी चलायमान है। नदियों की बूंद-बूंद भारत के भाग्य को...

9

ब्राह्मण की लड़की और अंत रंडी की मस्जिद?

रंडी की मस्जिद? रंडी? कितना अजीब शब्द लगता है, अजीब ही नहीं अजीब घृणा से भरा हुआ शब्द लगता है। मगर यह भी दुर्भाग्य है कि दिल्ली के बीचों बीच महिला कार्यकर्ताओं की भीड़...

13

रहीम और खून खराबे वाला प्रेम

“रहिमन धागा प्रेम का, मत तोरो चटकाय। टूटे पे फिर ना जुरे, जुरे गाँठ परी जाय।” यह अमर दोहा लिखने वाले रहीम से कौन परिचित नहीं होगा। भारत में लगभग हर कोई रहीम से...

3

1947 में हुआ विभाजन पिछले 2500 वर्षों में भारत का 24वां विभाजन था! आइए जानें आक्रांताओं ने भारत को कैसे-कैसे तोड़ा?

इंद्रेश कुमार। सम्पूर्ण पृथ्वी का जब जल और थल इन दो तत्वों में वर्गीकरण करते हैं, तब सात द्वीप एवं सात महासमुद्र माने जाते हैं। हम इसमें से प्राचीन नाम जम्बूद्वीप जिसे आज एशिया...

0

अय्याशियों की दास्तान? अकबर महान

“मगर वह तो शादीशुदा है? उससे कैसे आपका निकाह हो सकता है?” अकबर की मंशा जानते ही जैसे बाकी लोग चौंक गए! आगरा के किले में बादशाह का आनाजाना बेरोकटोक था। वैसे भी वह...

0

केरल का पद्मनाभस्वामी मंदिर: खजाने वाले बी चैंबर पर मंत्रयुक्त ताला सदियों पूर्व लगा दिया गया!

केरल का पद्मनाभस्वामी मंदिर विश्वभर में इसके लिए विख्यात है कि यहाँ की अकूत धन-संपत्ति को एक ऐसे रहस्यमयी कक्ष में बंद किया गया है, जिसकी रक्षा नागराज करते हैं। इस गुप्त ख़ज़ाने की...

4

अकबर की अय्याशी – सलीमा सुल्तान

“उसने तुम्हारी देखभाल की है, तुम्हें शासन करना सिखाया है, उसे ही रास्ते से हटाओगे?” अकबर के भीतर से किसी ने जैसे सवाल किए। “और वह तुम्हारी बहन होने के साथ उसकी बेगम भी...

3

क्या रानी अवंतिबाई केवल लोधी रानी थी?

“इतिहास में मेरा नाम तो रहेगा न?” मध्य प्रदेश में सिवनी जनपद में राजा जुझारू सिंह की पुत्री अपने पिता से कई बार यह प्रश्न पूछती थी। यह जो तलवारें इतना गरजती हैं, उनके...

0

वहां राम मंदिर ही तो है!

कहते हैं कि अफवाहों की उम्र नहीं होती. अफवाहों के पैर नहीं होते, और हवा में वह कितने दिन तक रहेंगी, जबकि सत्य के पैर होते हैं, वह धीरे धीरे चलता है, ठोस होता...

0

गांधी-नेहरू का रामायण-महाभारत दृष्टिकोण!

आप सबमें जिसने भी गांधी को ठीक से पढ़ा है, उसने गौर किया होगा कि गांधी ने बड़ी चतुराई से महाभारत को काल्पनिक कह उससे गीता निकाल लिया, और राम-रावण युद्ध को काल्पनिक कह...

0

आज के महाभारत एपिसोड से क्या शिक्षा मिली?

१) द्रोण, युधिष्ठिर और दुर्योधन के युवराज के चयन के सवाल पर निष्पक्षता के आवरण में योग्यता पर मौन साध लेते हैं। लेकिन जब युद्ध हुआ तो आखिर में उन्हें एक पक्ष से युद्ध...

4

द्रोण द्वारा एकलव्य का अंगूठा मांगना कूटनीति था न कि जातिवाद!

आज के महाभारत में एकलव्य के संबंध में जो आपने देखा, यदि वह पहले से जानते रहते तो वामपंथियों के उस झूठ को काट सकते थे, जिसका उपयोग कर वह SC/ST वर्ग को हिंदू...

ताजा खबर