Category: धर्म

0

इसलामिक एजेंडावादी जाकिर नाईक पर कार्रवाई और उसका फलसफा!

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने इसलामिक एजेंडावादी जाकिर नाईक के खिलाफ मुंबई की विशेष अदालत में टेरर फंडिंग के मामले में आरोप पत्र दाखिल किया है। ईडी अभी तक जाकिर नाइक की 193 करोड़ की...

0

शरीयत में कुत्ते और गधे के समान गंदी हैं महिलाएं!

मीमों के शरीयत कानून में महिलाओं को कुत्ते और गधे जैसा गंदा माना जाता है। यह खुलासा शरीयत कानून के जानकार ने किया है। शरीयत कानून के अमानवीय पक्षों को उजागर करने वाली कनाडा...

0

आज का कुंभ मेला ऋग्वेद में घटित घटनाओं की ही भव्य रचना है!

प्रयागराज में ऋग्वेद से चला आ रहा कुंभ मेला आरंभ हो चुका है, इसकी महत्ता के बारे में तो अधिकांश लोग अवगत होंगे लेकिन इसकी रचना के बारे में शायद कम ही लोग जानते...

0

मूल मनु-स्मृति के रचयिता महाराज मनु नहीं थे! तो फिर कौन थे?

मैंने परसों एक प्रश्न पूछा था कि मनु-स्मृति के रचयिता कौन थे, और इसका उल्लेख सर्वप्रथम किस ग्रंथ में आया है? मुझे दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि एक भी जवाब सही...

0

कुंभ को अवैज्ञानिक साबित करने के लिए अधूरी रिसर्च पेश कर रहा वामपंथी मीडिया!

प्रतिष्ठित अख़बार ‘द हिन्दू’ ने ‘सेल साइंस’ के वैज्ञानिकों की एक रिपोर्ट छापी है। रिपोर्ट के मुताबिक कुम्भ मेले में सामूहिक स्नान के कारण ‘बैक्टेरिया’ में वृद्धि हो रही है। वैज्ञानिकों की टीम का...

0

सेंसर बोर्ड की उदारता ने देश की जनता के हाथ में ‘टाइम बम’ रख दिया है

सेंसर बोर्ड ने ‘केदारनाथ’ को दो मामूली कट्स के बाद प्रदर्शन की इजाज़त दे दी है। पद्मावत और लवयात्री से उपजे विवादों के बावजूद सेंसर बोर्ड ने एक अत्यंत विवादास्पद फिल्म को हरी झंडी...

0

भगवान कृष्ण ने शरद पूर्णिमा की आधी रात को वृंदावन में 16000 गोपिकाओं के साथ किया था रास!

हेमंत शर्मा। इस महारास की खासियत थी कि हर गोपिका को कृष्ण के साथ नाचने का आभास था, उनका आनंद अटूट था। ‘निसदिन बरसत नैन हमारे. सदा रहत पावस ऋतु हम पर जब ते स्याम...

0

अपार शक्ति के बावजूद राम मनमाने फैसले नहीं लेते, वे लोकतांत्रिक हैं।

पूर्व में जनसत्ता में काम करने और हिंदी के बड़े आलोचक वनामवर सिंह के शिष्य होने के कारण कुछ लोग वरिष्ठ पत्रकार और लेखक हेमंत शर्मा को वामपंथी कह देते हैं, लेकिन यह सच...

0

काशी में खुदाई के दौरान मिल रहे हैं तीन से पांच हजार साल पुराने मंदिर!

अवनीश पी. एन. शर्मा।  श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर काॅरिडोर के काम के तहत अधिग्रहित भवनों के तोड़े जाने के दौरान हैरान करने वाली तस्वीरे सामने आ रही हैं। जिसमें चंद्रगुप्त काल से लेकर लगायत मंदिरों...

0

अब न वह गंगा है, न आस्था, और न कार्तिक पूर्णिमा की वह धार्मिकता!

हिंदू धर्म में कार्तिक, कार्तिक पूर्णिमा, कार्तिक में गंगा स्नान, देवदीपावली की महत्ता आदि आप इस एक लेख से जितना जान पाएंगे, उतना ढूंढ़ने पर भी आप शायद न पढ पाएं! आज के समय...

0

आखिर शिव में ऐसा क्या है, जो उत्तर में कैलास से लेकर दक्षिण में रामेश्वरम तक वो एक जैसे पूजे जाते हैं?

शिव गुट निरपेक्ष हैं. सुर और असुर दोनों का उनमें विश्वास है. राम और रावण दोनों उनके उपासक हैं।आखिर शिव में ऐसा क्या है, जो उत्तर में कैलास से लेकर दक्षिण में रामेश्वरम तक...

0

केदारनाथ को लेकर सस्पेंस बरक़रार, सात दिसंबर को होगी रिलीज

जिन दिनों ‘पद्मावत’ का प्रदर्शन रुकवाने के लिए करणी सेना देश में उग्र प्रदर्शन कर रही थी, उस दौर में मैंने अपने लेख में एक बात कही थी। मैंने लिखा था कि पद्मावत को...

0

महाभारत पर फिल्म बनाने के लिए विवादित किताब को आधार बनाना चाहते हैं आमिर खान

सन 2008 में कोलकाता की लेखिका चित्रा बनर्जी दिवाकरुणी की किताब ‘ पैलेस ऑफ़ इल्यूजन्स’ बेस्ट सेलर रही थी।  ये किताब महाभारत पर आधारित है। किताब में महाभारत की घटनाओं को द्रौपदी के नजरिये...

0

छठ महापर्व: लोक आस्था का वह महापर्व जिसने अप्रवासियों को दिलाया परदेश में सम्मान!

छठ को यदि आप पर्व कहेंगें तो बिहारी आपको समझाने लगेंगे ऐसी गलती न कीजिए छठ पर्व नही महापर्व है। बिहार समेत पूरे पूर्वांचल में छठ लोक आस्था का महापर्व है। बिहार में दिवाली...

0

क्यों और कैसे मनाते हैं छठ महापर्व?

कमलेश झा । भारत की विविध संस्कृति का एक अभिन्न अंग यहां के पर्व हैं। भारत में ऐसे कई पर्व मनाए जाते हैं जो बेहद कठिन माने जाते हैं और इन्हीं पर्वों में से...

0

मुसलिम बहुल देश बुरका उतार रहे हैं जबकि भारतीय मुसलमान बुरका से आगे बढ़ने को तैयार नहीं!

कई मुसलिम बहुल देशों ने तो बहुत पहले ही बुरके को प्रतिबंधित कर चुके हैं वहीं कई कट्ट्रर मुललिम देश अब बुरका पर प्रतिबंध लगा रहे हैं। ऐसे करने वालों में अल्जीरिया जैसे देश...

0

ईसाई पादरी ने राजीव गांधी की हत्या को बताया जायज!

ईसाई इतने सालों से भारत में रहने के बाद भी वे कभी भारतीय नहीं हो पाए, तभी तो आज-तक वे वेटिकन चर्च के हुकूम बजाने को शापित हैं। ईसाई सांस्कारिक दोष के शिकार होते...

0

क्रिश्चियनिटी में मेरी सिर्फ जीसस की जननी हैं जबकि सनातन धर्म में दुर्गा जगत जननी!

वर्तमान कभी पूर्ण नहीं होता वह इतिहास और भविष्य का संधि स्थल होता है। जहां इतिहास उसे सबल बनता है वहीं अपने भविष्य की दिशा दिखाता है। जो पश्चिम का क्रिश्चियनिटी समुदाय आज नारी...

0

माँ दुर्गा के नौ नाम और उनका अर्थ!

नित्यानद मिश्र। नवरात्र की नौ रात्रियाँ देवी के नौ रूपों अथवा नवदुर्गाओं से संबद्ध हैं। आइये देवी के नौ रूपों के नामों का अर्थ समझें। देवी के नौ रूप प्रसिद्ध हैं हीं— प्रथमं शैलपुत्रीति...

0

जानिए, नवरात्र में घट स्थापना और अखंड ज्योति प्रज्वलित करने का शुभ मुहर्त !

पं. हेमंत रिछारिया। 10 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र प्रारंभ होने जा रही है। नवरात्र के यह नौ दिन मां दुर्गा की पूजा-उपासना के दिन होते हैं। अनेक श्रद्धालु इन नौ दिनों में अपने घरों...

ताजा खबर