Category: अनोखा इतिहास

0

भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी RAW को कमज़ोर करने में गांधी परिवार की भूमिका

उपरोक्त हिंदी अनुवाद एस गुरूमूर्ति द्वारा 17 अप्रैल 2004 को न्यू इंडियन एक्सप्रेस में लिखे गए लेख का हिंदी अनुवाद है। हालांकि गुरूमूर्ति के उस लेख का वेब लिंक न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने हटा...

0

इंदिरा गांधी ने कैसे जरनैल सिंह भिंडरावाले को एक संत से आतंकवादी बना दिया!

एक समय था जब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सज्जन कुमार को 1984 में सिख विरोधी दंगा के दौरान सामूहिक हत्या मामले में सजा होने की बात सोचना भी अकल्पनीय था। ध्यान देने वाली बात...

0

सिंधु-गंगा की घाटियों से जो संपत्ति गजनवी ने लूटी, वह राख में बदल गई

अंग्रेज़ों के टुकड़ों पर पले और वामपंथी सोच के इतिहासकारों ने महमूद गजनवी के बारे एक झूठ प्रचारित किया है कि भारत में उसके सत्रह हमलों का उद्देश्य इस्लाम का प्रचार नहीं बल्कि हमारे...

0

जीवंत हुआ शिवाजी का स्वर्णिम इतिहास, चार लाख की लागत से बनाई गई ‘भवानी तलवार’

  छत्रपति शिवाजी महाराज के पास तीन अनूठी तलवारें थी। भवानी, जगदम्बा और तुलजा। जगदम्बा तलवार इंग्लैंड के म्यूजियम में रखी है लेकिन भवानी और तुलजा तलवार दो सौ साल से अधिक समय से...

0

अमेरिका में पाए गए विशालकाय हिन्दू प्रतीक श्रीयंत्र का वीडियो हमने खोज निकाला है!

अमेरिका के पर्वतीय क्षेत्र ऑरेगन की एक झील में एक रहस्य सदियों से पड़ा सो रहा था। झील में बहता पानी उस रहस्य को दुनिया की आँखों से बचाए रखता था। एक दिन झील...

0

बादशाह अकबर की बीबी और उसके बेटे जहांगीर के बीच अवैध यौन संबंध को ढंकने के लिए गढ़ी गई सलीम-अनारकली की दास्तान-ए-मोहब्बत!

आज सलीम अनारकली, एक मुगल शहजादे सलीम, जो बाद में बादशाह जहांगीर बना और महल की बांदी अनारकली के मुहब्बत की कहानी को कौन नही जानता है? ये मुहब्बत ऐसी थी की अनारकली के...

0

बगैर ऑक्सीजन समुद्र के तल में दौड़ लगाते हैं ये ‘शिकारी’!

1995 में प्रदर्शित हुई एक फिल्म ने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींच लिया। ध्यान खींचने का कारण था फिल्म का यूनिक कथानक। भविष्य की पृथ्वी जलमग्न हो चुकी है। मनुष्यों का एक...

0

सारागढ़ी युद्ध- 21 सिख सूरमाओं के अद्भुत शौर्य की गाथा!

वामपंथी इतिहासकारों ने भारत के भूतकाल से बहुत छल किया! भारत के गौरवशाली अतीत को अपने चाटुकारिता वाले शब्दों से भरे इतिहास के पीछे दबा दिया ताकि वो इतिहास जो आपकी नसों में खून...

0

छल से वेदांत के बहाने डॉ राधाकृष्णन ने ईसायत को स्थापित करने का किया था प्रयास!

कल शिक्षक दिवस था। देश के पहले उपराष्ट्रपति डॉ राधाकृष्णन की याद में मनाए जाने वाले इस दिवस के दिन उनके असली चेहरे को उजागर करना ठीक नहीं लगा। वैसे इंडिया स्पीक्स के प्रधान...

0

अचरज…कैलाश पर्वत की तलहटी में एक दिन होता है ‘एक माह’ के बराबर!

कैलाश की दिव्यता खोजियों को ऐसे आकर्षित करती रही है, जैसे खगोलविद आकाशगंगाओं की दमकती आभा को देखकर सम्मोहित हो जाते हैं। शताब्दियों से मौन खड़ा कैलाश संसार के पर्वतारोहियों और खोजियों को चुनौती...

0

पृथ्वी के 4200 साल ‘मेघालयन काल’ के नाम से जाने जाएंगे।

भू-वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के पिछले 4,200 सालों को नया नाम दिया है। अब इस अवधि को ‘मेघालयन काल’ के नाम से जाना जाएगा। इसका आरंभ एक भयानक सूखे के साथ हुआ था। करीब दो...

0

क्यों न नेहरु के नाम पर बने फुटबाल स्टेडियमों का दोबारा नामकरण हो, नेहरु ने ही किया था भारतीय फुटबॉल का बेड़ा गर्क!

फीफा वर्ल्ड कप फुटबॉल टूर्नामेंट का कल समापन हुआ। अक्सर लोगों के मन में सवाल उठता है कि भारत जैसा बड़ा देश आखिर इस प्रतियोगिता में क्यों नहीं है? दरअसल इसके पीछे एक कहानी...

0

कर्म कभी पीछा नहीं छोड़ता, मुगलों के कुकर्म का फल उनकी पीढियां आज भोग रही हैं!

वैसे तो भगवान कृष्ण ने गीता में अर्जुन से कहा था कि कर्म कभी किसी का पीछा नहीं छोड़ता, कर्म के अनुरूप फल भुगतना पड़ता है। वहीं एक कहावत है कि भगवान की लाठी...

0

कश्मीर का अतीत! कोटा रानी जिसने इसलामी आक्रमणकारियों से कश्मीर को बचाने के लिए मरते दम तक प्रयास किया!

कश्मीर इन दिनों विवादों में है। रहस्य का आवरण ओढ़े कई कहानियां आज कश्मीर के बहाने हम सब के सामने आ रही हैं। कश्मीर का इतिहास रक्तरंजित के साथ ही इसलामी आक्रमण का वह...

0

सोनिया के सहयोगी ने कहा.. अगर संघ के गोलवलकर नहीं होते तो जम्मू कश्मीर का विलय भारत में नहीं हो पाता

जिस संघ को कांग्रेस अछूत मानती है उसी संघ ने भारत के एकीकरण में अहम भूमिका निभाई है। जम्मू-कश्मीर अगर आज भारत का अटूट हिस्सा है तो उसमें संघ की महत्वपूर्ण भूमिका है। संघ...

0

भारत के क्रांतिकारियों में वीर सावरकर का क्या स्थान था, यह इस बात से समझा जा सकता है कि जब भगत सिंह और सुखदेव अपने संगठन में नौजवानों को शामिल करते थे तो पूछते थे, क्या ‘लाइफ ऑफ बेरिस्टर सावरकर’ पढ़ी है?

Pushker Awasthi| कल भारत माता के सर्वोत्तम पुत्रो में से एक वीर विनायक दामोदर सावरकर जी का जन्म दिवस (28 May 1883 – 26 February 1966) था, जिनको आज लोग, ‘वीर सावरकर’ के नाम...

0

प्राचीन अरब था कभी हिंदू संस्कृति का अभिन्न अंग!

प्रख्यात इतिहासकार श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक (1917-2007) ने अपनी पुस्तक ‘वैदिक विश्व राष्ट्र का इतिहास’ के खण्ड 2, पृ. 466-467 पर इस्लाम-पूर्व अरब के एक शिलालेख का ज़िक्र किया है, जिसे उन्होंने ब्रिटिश म्यूजियम,...

0

मलेशिया में मिला एक अद्भुत शिवलिंग!

विपुल विजय रेगे। आदि पर्व की महाभारत जैसे विशाल ग्रन्थ की मूल प्रस्तावना है। इसमें महाभारत के पर्वों और उनके विषयों का संक्षिप्त संग्रह है। कथा-प्रवेश के बाद च्यवन का जन्म, पुलोमा दानव का...

0

ईशा मसीह द्वारा भारत में ज्ञान प्राप्त करने और यहां समाधि लेने का एक-एक सबूत, आप खुद पढ़िए!

गुंजन अग्रवाल। ईसाइयत (Christianity) के जनक कहे जानेवाले ईसामसीह अपने 12वें वर्ष से लेकर 30 वर्ष तक क्या करते रहे अथवा कहाँ थे, इस विषय में बाइबल (नवविधान, New Testament) में कुछ भी लिखा...

0

प्राचीन अरब कभी हिंदू संस्कृति का अभिन्न अंग था।

गुंजन अग्रवाल। इस्तांबुल, तुर्की के प्रसिद्ध राजकीय पुस्तकालय ‘मक्तब-ए-सुल्तानिया’ (सम्प्रति मक्तब-ए-ज़म्हूरिया), जो प्राचीन पश्चिम एशियाई-साहित्य के विशाल भण्डार के लिए प्रसिद्ध है, के अरबी विभाग में प्राचीन अरबी-कविताओं का संग्रह ‘शायर-उल्-ओकुल’ हस्तलिखित ग्रन्थ के...

समाचार