Category: परंपरा, पर्व और प्रारब्ध

0

अब न वह गंगा है, न आस्था, और न कार्तिक पूर्णिमा की वह धार्मिकता!

हिंदू धर्म में कार्तिक, कार्तिक पूर्णिमा, कार्तिक में गंगा स्नान, देवदीपावली की महत्ता आदि आप इस एक लेख से जितना जान पाएंगे, उतना ढूंढ़ने पर भी आप शायद न पढ पाएं! आज के समय...

0

छठ महापर्व: लोक आस्था का वह महापर्व जिसने अप्रवासियों को दिलाया परदेश में सम्मान!

छठ को यदि आप पर्व कहेंगें तो बिहारी आपको समझाने लगेंगे ऐसी गलती न कीजिए छठ पर्व नही महापर्व है। बिहार समेत पूरे पूर्वांचल में छठ लोक आस्था का महापर्व है। बिहार में दिवाली...

0

क्यों और कैसे मनाते हैं छठ महापर्व?

कमलेश झा । भारत की विविध संस्कृति का एक अभिन्न अंग यहां के पर्व हैं। भारत में ऐसे कई पर्व मनाए जाते हैं जो बेहद कठिन माने जाते हैं और इन्हीं पर्वों में से...

0

‘मनु’ ने प्रथम श्राद्धक्रिया की इसलिए उन्हें ‘श्राद्धदेव’ भी कहा जाता है।

शशि झा। श्राद्ध का अर्थ एवं श्राद्धविधि का इतिहास आप भी जान लीजिए। श्राद्धविधि हिन्दू धर्म का एक महत्त्वपूर्ण आचार है तथा वेदकाल का आधार है। अवतारों ने भी श्राद्धविधि किए हैं, ऐसा उल्लेख...

0

जिउतिया पर्व 2018: जीवित्पुत्रिका व्रत कथा, शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और व्रत नियम।

शशि झा। यह व्रत आश्विन माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को आता है। ऐसी मान्यता है कि यह व्रत स्त्रियों द्वारा अपनी संतान की आयु, आरोग्य तथा उनके कल्याण हेतु पूरे विधि-विधान से...

0

हरतालिका तीज और हिंदू दर्शन!

आज हमारे यहां हरतालिका तीज है। गांव में मां, और यहां दिल्ली में श्रीमती श्वेता देव और मेरे छोटे भाई की पत्नी मीनू देव, अपने अपने पति के लिए व्रत की हुई हैं। मान्यता...

1

कुंडली मिलान का पारंपरिक तरीका कितना सफल और कितना तार्किक?

कब प्रारम्भ हुआ कुंडली मिलान :- प्राचीन या वैदिक काल में हिन्दू लोग ज्योतिष और एस्ट्रोनॉमी से पूरी तरह परिचित होने के बावजूद विवाह में किसी भी प्रकार के ज्योतिष, गुण मिलान आदि का...

0

तो क्या समय से पहले होंगे 2019 के चुनाव?

भारतीय हिन्दू ज्योतिष यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव में कौन जीतेगा तो वह यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव कब होंगे? कुछ वरिष्ठ ज्योतिषियों ने 1989 के तथा दो...

0

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव पर महारास के जरिए धर्म में नारी की महत्ता को अध्यात्मिक तरीके से स्थापित किया दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान ने!

श्री कृष्ण-एक परिवर्तनकारी युगपुरुष जिनकी क्रांति में भी शांति के छंद थे, विध्वंस में भी महा-सृजन का उद्घोष था। जिन्होंने महाभारत में महान-भारत का चित्र गढ़ा। जिनकी लीलाओं में था अध्यात्म का सरसतम सार...

0

वास्तुशास्त्र- चारों दिशाओं में कहां हो आपका मुख्य द्वार?

किसी भी घर या व्यावसायिक प्रतिष्ठान में यदि सबसे अधिक अच्छा या बुरा प्रभाव किसी का पड़ता है तो वह होता है उसका प्रवेश द्वार। क्योंकि एक दिशा के 8 हिस्से होते हैं। तो...

0

ज्योतिष की भविष्यवाणी 2018 भाजपा के लिए लाएगा संकट!

ज्योतिष भारत की समृद्ध और यशस्वी परंपरा है। ज्योतिष शास्त्र युगों से अपनी सटीक भविष्यवाणी के लिए मशहूर रहा है। भारतीय राजनीति के विषय में भविष्यवाणी समय समय पर होती आई हैं। यदि नक्षत्रों...

होली गीत – आओ खेलें कुमाऊंनी होली रे रसिया…

होली गीत – कुमाऊंनी होली भारत की सांस्कृतिक विरासत कश्‍मीर से लेकर कन्याकुमारी तक विविधता में एकता की छटा बिखेरता है। रंगों का त्‍यौहार होली भी इस विविधता से बचा नहीं रह पाता। कहने...

ताजा खबर