शीर्षक: कांग्रेस की तानाशाही! #TheAccidentalPrimeMinister को महाराष्ट्र से मध्यप्रदेश तक रोकने की तैयारी!



Awadhesh Mishra
Awadhesh Mishra

कांग्रेस की तानाशाही की आदत कभी गई नहीं है। कांग्रेस ने अब फिल्म निर्माताओं पर अपनी तानाशाही चलानी शुरू कर दी है। महाराष्ट्र यूथ कांग्रेस ने ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ फिल्म के निर्माता पर अपनी तानाशाही चलानी शुरू कर दी है। उसने फिल्म निर्माता को एक पत्र लिखकर फिल्म रिलीज करने से पहले दिखाने को कहा है। उसने अपने पत्र में लिखा है कि अगर उसे यह फिल्म रिलीज करने से पहले नहीं दिखाई गई तो उसे रिलीज नहीं होने देंगे। इससे साफ लगता है कि कांग्रेस ने द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर फिल्म को महाराष्ट्र से लेकर मध्य प्रदेश तक में रोकने की तैयारी पूरी कर ली है। क्या आपने कांग्रेस के अलावा किसी और की ऐसी तानाशाही देखी है?

महाराष्ट्र यूथ कांग्रेस ने ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ फिल्म के निर्माता को एक चिट्टी लिखकर धमकी दी है कि अगर उसके मुताबिक फिर से फिल्म को एडिट नहीं किया गया और उसमें से अनफैक्टुअल दृश्य नहीं हटाए गए तो वह पूरे देश में कहीं भी इस फिल्म को चलने नहीं देगी। यूथ कांग्रेस ने अपने पत्र के माध्यम से फिल्म निर्माता को फिल्म रिलीज करने से पहले उसे दिखाने को कहा है। उसने कहा है कि अगर फिल्म में कोई अवास्ताविक दृष्य मिला तो फिल्म निर्माता को उसे हटाना पड़ेगा। उसने धमकी दी है कि अगर उसके मनमुताबिक फिल्म नहीं हुई तो वे पूरे देश में इस फिल्म को कहीं नहीं चलने देंगे। यूथ कांग्रेस की इस धमकी भरी चिट्टी सामने आने के बाद एक भी पत्रकार ने कांग्रेस के खिलाफ एक शब्द नहीं बोला है। बल्कि पेटीकोट मीडिया इस फिल्म पर ही प्रश्न खड़ा करना शुरू कर दिया है।

क्या आपने पंचाब चुनाव से पहले रिलीज हुई फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ को लेकर किसी भी पत्रकार को अरविंद केजरीवाल या राहुल गांधी के खिलाफ बोलते हुए सुना था? मालूम हो कि जब पंजाब में विधानसभा चुनाव होने वाला था, उससे पहले ‘उड़ता पंजाब’ फिल्म का ट्रेलर चलाने के साथ उसे रिलीज किया गया था। ये तो जगजाहिर है कि अकाली दल सरकार को बदनाम करने के लिए केजरीवाल और राहुल के मन के मुताबित यह फिल्म बनाई गई थी। उस समय यही मीडिया पंजाब चुनाव के पहले रिलीज हुई ‘उड़ता पंजाब’ फिल्म को लेकर न तो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल न ही कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी पर एक शब्द बोला था। पेटीकोट मीडिया का दोगलापन इसी से जाहिर हो जाता है।

गौरतलब है कि वरिष्ठ पत्रकार तथा यूपीए सरकार के दौरान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार रहे संजय बारू की लिखी किताब पर आधारित तथा प्रसिद्ध कलाकार अनुपम खेर अभिनीत फिल्म ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है। इस फिल्म का देश के राजनीतिक जनमानस पर क्या प्रभाव पड़ेगा यह तो वक्त बताएगा लेकिन इसका ट्रेलर काफी प्रभावी है। यही फिल्म 11 जनवरी को रिलीज होने वाली है। बहुत कम ऐसी फिल्म होती है जिसके ट्रेलर से पूरी कहानी का अंदाजा लग जाता हो। इस  फिल्म में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल के दौरान सरकार और प्रधानमंत्री के अहम फैसले और उसके प्रभाव को दिखाने का प्रयास किया गया है। लगता है ट्रेलर का असर कुछ ज्यादा हो गया है। तभी तो कांग्रेस ने उसे रिलीज होने से रोकने की तैयारी में जुट गई है।

 

प्वाइंट वाइज समझिए

फिल्म निर्माताओं पर कांग्रेस की तानाशाही

* ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ फिल्म निर्माता पर कांग्रेस की तानाशाही

* महाराष्ट्र यूथ कांग्रेस ने पूरे देश में फिल्म रिलीज न होने की दी है धमकी

* ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ को रिलीज करने से पहले दिखाने को कहा

* फिल्म निर्माता से फिल्म में अवास्तविक दृश्य हटाने की बात कही है

* महाराष्ट्र यूथ कांग्रेस ने ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के निर्माता को लिखा खत

URL : Congress dictating filmmaker, said first show and then release your film !

Keyword : congress dictatorship, filmmaker, the accidental prime minister, कांग्रेस की तानाशाही, फिल्म पर रोक,


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !