‘भारत आपके लिए नहीं बदलेगा, आपको भारत के लिए बदलना होगा’



Vipul Rege
Vipul Rege

आयुष्यमान खुराना की फिल्म ‘बधाई हो’ अपने छठवें सप्ताह में भी दर्शक बटोर रही है।एक दशक से जारी एक्शन थ्रिलर का ‘फ़िल्मी ट्रेंड’ तेज़ी से बदल रहा है। पारिवारिक और रोमांटिक फिल्मों का दौर बाज़ार में ‘प्रवेश’ कर चुका है। इस साल प्रदर्शित फिल्मों में वे ज़्यादा सफल रही, जिनमें ‘स्माल टाउन’ की पृष्ठभूमि थी। इसके अलावा इस साल आयुष्यमान खुराना जैसे कलाकारों के सामने ‘खान तिकड़ी’ बेअसर नज़र आई। अक्षय कुमार जैसे दिग्गज भी कुछ ख़ास न कर सके। दर्शक का टेस्ट बदल रहा है। वह भारी भरकम तामझाम और विदेशी लोकेशंस देखकर ऊब चुका है। अब वह अपने घर-मोहल्ले की कहानी देखना चाहता है।

साल की शुरुआत में ‘पैडमैन’ और ‘अय्यारी’ फ्लॉप साबित होती है और एक गुमनाम फिल्म ‘सोनू के टीटू की स्वीटी’ जबरदस्त ढंग से कामयाब होती है। ‘रेड’ और ‘बागी-2’ बॉक्स ऑफिस पर तांडव कर रही थी और रेस जैसी फ़िल्में बॉक्स ऑफिस पर धड़ाम हो रही थी। ‘102 नॉट ऑउट और राजी’ ने कामयाबी के रिकॉर्ड बनाए। इधर बड़े सितारों की ‘डिजाइनर’ फ़िल्में पिटती रही और उधर आयुष्यमान खुराना जैसे सितारों का उदय हुआ। उनकी दो फिल्मों ‘अंधाधुन’ और ‘बधाई हो’ ने बॉक्स ऑफिस को हिलाकर रख दिया। ‘स्त्री’ खूब चलती है क्योकि उसकी स्क्रिप्ट में छोटे शहर है, वहां की बोली है लेकिन ‘मनमर्जियां’ पिट जाती है क्योकि उसकी कहानी ‘महानगरीय हवा’ में सांस लेती है।

 

‘बधाई हो’ अपने छठवें हफ्ते में विजय पताका लहरा रही है जबकि उसके सामने ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’ ढेर हो गई। ‘बधाई हो’ की सफलता ‘ईमानदारी’ से हासिल की गई सफलता है। उसके निर्माता ने रिलीज से पहले फिल्म महंगे दाम पर बेचकर दर्शक और सिनेमा संचालक को ठगने का काम नहीं किया था। ये फिल्म मात्र 29 करोड़ के बजट में बनाई गई थी। तगड़ी स्क्रिप्ट और बेमिसाल निर्देशन की ताकत है कि फिल्म आज भी पैसा बटोर रही है।

कम पैसों में फिल्म बनाओ। कहानी उत्कृष्ट हो और कलाकार बेजोड़ हो। यही मूलमंत्र बासु चटर्जी जैसे निर्देशकों का रहा। वह दौर लौट रहा है। बड़े निर्माण तो केवल राजामौली या राकेश रोशन जैसे फिल्मकार ही कर पा रहे हैं। आदित्य चोपड़ा तो अपना प्रोडक्शन फैक्टरी की तरह चला रहे हैं।फिल्म एक ऐसी विधा है जिसे ‘डिजाइन’ करना बहुत खतरनाक साबित होता है।

‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’ के साथ यही हुआ है। इसमें रचनात्मक पक्ष कहीं नज़र ही नहीं आया। किरदारों को गहराई से नहीं लिखा गया। इसके उलट ‘बधाई हो’ का हर किरदार एक अलग खुशबू लिए पेश होता है। 2018 का साल एक बड़े बदलाव के लिए जाना जाएगा। ये साल बड़े सितारों के पतन का रहा है और नए सितारों के उदय का साक्षी रहा है। छोटे शहरों की कहानियां खूब पसंद की गई है।

ये गहरा संकेत है कि आप ‘महानगरीय दर्शकों’ के लिए फिल्म बनाओगे तो अधिक दूर नहीं चल सकते। आपको देशज सिनेमा ही सफलता दिलवा सकता है। ऐसा सिनेमा जिसमे अपनी माटी की सुगंध आती हो। ध्यान रहे सिनेमा वालो ‘भारत आपके लिए नहीं बदलेगा, आपको भारत के लिए बदलना होगा’।

URL: When the subject is strong, stars, screen and studios don’t matter

Keywords: ‘Badhai ho’,  superhit, ‘Thugs of hindostan’, small town movies


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

Vipul Rege
Vipul Rege
पत्रकार/ लेखक/ फिल्म समीक्षक पिछले पंद्रह साल से पत्रकारिता और लेखन के क्षेत्र में सक्रिय। दैनिक भास्कर, नईदुनिया, पत्रिका, स्वदेश में बतौर पत्रकार सेवाएं दी। सामाजिक सरोकार के अभियानों को अंजाम दिया। पर्यावरण और पानी के लिए रचनात्मक कार्य किए। सन 2007 से फिल्म समीक्षक के रूप में भी सेवाएं दी है। वर्तमान में पुस्तक लेखन, फिल्म समीक्षक और सोशल मीडिया लेखक के रूप में सक्रिय हैं।