जम्मू-कश्मीर में टेरर फंडिंग करने वालों पर कसेगी नकेल, एनआईए की कई हुर्रियत नेताओं पर नजर!

अलगाववादी नेता यासिन मलिक की पत्नी का पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से मदद की गुहार लगाने का वीडियो शायद सभी ने देखा हो.. ये गिड़गिड़ाहट वैसे नहीं सामने आई है। दरअसल भारत विरोधी रुख रखने वाले इन जैसे कई हुर्रियत नेता हैं जिनपर आतंकियों को फंडिंग करने के साथ अपनी तिजोरी भड़ने का संदेह है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) इन देश विरोधी आतंक समर्थकों पर नकेल कसने की तैयारी कर चुकी है। जम्मू-कश्मीर टेरर फंडिंग मामले में शामिल हुर्रियत नेताओं की जांच के तहत एनआईए ने पहले से गिरफ्तार कश्मीरी व्यवसायी जहूर अहमद शाह वताली के एकाउंटेंट से पूछताछ की है। एनआईए ने गुड़गांव निवासी मुस्ताक अहमद मीर से भारत में निर्माण व्यवसाय के नाम पर अवैध रूप से दुबई से आए पैसों को कश्मीर में सक्रिय आतंकियों और अलगाववादियों तक पहुंचाने के बारे में पूछताछ की है ।

मुख्य बिंदु

* कश्मीर में आतंकियों को आर्थिक मदद करने को लेकर एनआईए को हुर्रियत के कुछ बड़े नेताओं पर है संदेह

* आने वाले दिनों में एनआईए कुछ बड़े अलगाववादी नेताओं के नाम भेज सकती है समन

एनआई के अधिकारियों ने अपने मुख्यालय में मीर से वताली के व्यवसाय संचालन तथा विदेश से आए धन तथा उसे कश्मीर में आतंकियों को आर्थिक मदद करने वाली सक्रिय फाइनेंसियल एजेंसियों तक पैसे पहुंचाने के बारे में पूछताछ की। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एनआईए को संदेह है आतंकियों को आर्थिक मदद देने में अलगाववादी संगठन हुर्रियत के कुछ बड़े नेताओं की संलिल्पता है। एनआईए इसी बात को स्थापति करने के लिए आने वाले दिनों में कुछ बड़े हुर्रियत नेताओं के नाम समन जारी कर सकती है।

पूछताछ करने से पहले एनआईए ने मुत्काक के कई ठिकानों की जांच कर वहां से कई आर्थिक दस्तावेज जब्त कर लिए हैं। एनआईए ने वताली की कंपनियों की बैलेंश शीट के साथ ऑडिट रिपोर्ट भी जब्त कर ली है। इसी साल जनवरी में एनआईए ने वताली के खिलाफ दाखिल चार्जशीट में उसे आरोपी बनाया है। वताली पर आतंकियों के लिए फंड रेज करने का आरोप है!

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एनआईए ने जांच में खुलासा किया है कि वताली के एकाउंट में अज्ञात सोर्स से 2012 से 16 के बीच करीब 10 से 12 करोड़ रुपये आए थे। मोदी सरकार इसी टेरट फंडिंग पर करारा प्रहार करना चाहती है, लेकिन ऐसे भी कुछ लोग हैं जो सरकार के इस सख्त कमद की आलोचना करने से बाज नहीं आते। लेकिन एनआईए जब अपनी जांच शुरू कर दी है तो अब इसका सुखद अंजाम निकलना तय है।

URL: NIA starting to establishing terror funding trail to some senior Hurriyat leaders

Keywords: NIA, jammu kashmir, senior Hurriyat leader, terror funding in kashmir, एनआईए, वरिष्ठ हुर्रियत नेता, कश्मीर में आतंकवाद, आतंकवादी फंडिंग

आदरणीय पाठकगण,

News Subscription मॉडल के तहत नीचे दिए खाते में हर महीने (स्वतः याद रखते हुए) नियमित रूप से 100 Rs. या अधिक डाल कर India Speaks Daily के साहसिक, सत्य और राष्ट्र हितैषी पत्रकारिता अभियान का हिस्सा बनें। धन्यवाद!  

For International members, send PayPal payment to [email protected] or click below

Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Branch: GR.FL, DCM Building 16, Barakhamba Road, New Delhi- 110001
SWIFT CODE (BIC) : HDFCINBB
Paytm/UPI/ WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9312665127

You may also like...

Write a Comment

ताजा खबर