ब्रिटिश प्रधानमंत्री कैमरून ने भारत का किया समर्थन, चीन पाकिस्तान को झटका !



Posted On: June 18, 2016
Sanjeev Joshi
Sanjeev Joshi

अमेरिका का भारत को एनएसजी का सदस्य बनाए जाने के समर्थन को और बल देते हुए ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कैमरून ने फ़ोन पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूर्ण रूप से समर्थन देने का भरोसा जताया है ! उन्होंने कहा की ब्रिटेन भारत की सदस्यता के लिए अन्य सदस्य राष्ट्रों से अपील करता है कि वह भारत की सदस्य्ता का समर्थन करें! अमेरिका पहले ही भारत की सदस्यता को लेकर सभी ४८ सदस्य राष्ट्रों को पत्र लिख चुका है।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरून ने भारत को एनएसजी की सदस्यता दिलवाने में अपने देश का समर्थन देने का भरोसा दिलाया है। भारत लम्बे समय से एनएसजी की सदस्यता को लेकर प्रयासरत है! सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा कि प्रधानमंत्री का पिछले दिनों पांच राष्ट्रों का दौरा भी न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप की सदस्यता हासिल करने की दिशा में उठाया गया कदम है ! यदि भारत यह सदस्यता हासिल कर लेता है तो भारत के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि होगी।

भारत की सदस्यता को लेकर चीन का रवैय्या हमेशा ढुल-मुल रहा है ! यह विरोध उसका पाकिस्तान के प्रति प्रेम का है अथवा प्रधानमंत्री मोदी के आने के बाद भारत का विश्वपटल पर एका-एक उभर आने पर एशिया में अपना दबदबा कम होने का अंदेशा ! यह तो वही जाने पर ब्रिटिश प्रधानमंत्री कैमरून के भारत को दिए आश्वासन ने चीन और पाकिस्तान एक झटका तो जरूर दिया है।

Comments

comments


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें!

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है। देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें! धन्यवाद !
* मात्र 200 ₹ प्रतिमाह का सहयोग करें और मिलकर प्रोपोगंडा वार को ध्वस्त करें।



Be the first to comment on "‘सुलभ शौचालय’ भी चला डिजिटल पेमेंट की राह!"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें!

 

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है। देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें! धन्यवाद !