Watch ISD Live Now   Listen to ISD Podcast

Category: व्यक्तित्व विकास

0

इतिहास तथा भविष्य का निर्माण करने वाली मानव की सर्वाधिक शक्तिशाली क्षमता !

मानव की वह क्षमता जो इतिहास को भी बदल सकती है और भविष्य का रुख तय कर सकती है , वह है – प्रश्न पूछकर उसके उत्तर की खोज की क्षमता । यह क्षमता...

0

मोदी अंकल से मिलना है ! 

अर्चना कुमारी। मानसिक रूप से बीमार 14 वर्षीय किशोर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने की चाहत लेकर घर से निकल गया। बताया जाता है घूमता हुआ वह घर से काफी दूर निकल गया। इस...

0

मैं भारत सरकार को कुछ सुझाव देना चाहता हूं

1 सरकारी नियंत्रण से देश के सभी मंदिरों को मुक्त किया जाए 2 अल्पसंख्यकों की परिभाषा जिले या राज्य स्तर पर तय की जाएं 3 वक्फ बोर्ड मुस्लिम और पर्सनल लॉ बोर्ड को समाप्त...

0

चेतावनी: अगर आप अपनी सेहत को लेकर ज़रा भी सीरीयस हो तो घी को कोसना बंद करके पूरी पोस्ट पढ़िये

व्यापार में विज्ञापन तर्क़ का विकल्प है। दोबारा पढ़िये। व्यापार में विज्ञापन तर्क का विकल्प है। जितना जल्दी आप ये 7 शब्दो का वाक़्य समझ और गुण लेंगे जीवन जंजाल से मुक्त होने लगेगा।...

0

नेता के नशा में जनता Critical thinking या अपनी तार्किक क्षमता को बिलकुल खो देती है!

सारा कुमारी. Neil Postman की एक किताब आई थी – Amusing ourselves to death, (modern era) आधुनिक युग में हिन्दुओं की सभी लीडरशिप कुछ इसी तरह की आ रही है, भीड़ से निकल कर स्वयं...

0

भारतीय इतिहास पुनर्लेखन का आन्दोलन खड़ा करने वाले इतिहास पुरुष ‘हमारे ठाकुर रामसिंह जी’

यह आलेख एक ऐसे इतिहासपुरुष के बारे में लिख रहा हूँ, जिनके बारे में युवा वर्ग कदाचित ही जानता होगा भले ही उनके नाम पर विकिपीडिया पेज बना हुआ है। यह लेख समर्पित है...

0

15 अगस्त के दिन हिन्दू समाज के जागरण हेतू वर्ष 2020 में ‘श्राद्ध संकल्प दिवस’ की शुरुआत करना मीनाक्षी शरण का भगीरथी प्रयास

10 अगस्त 2022, समय दोपहर 3 बजे। इंडिया स्पीक्स डेली पर संदीप देव जी के साथ मीनाक्षी शरण जी का संवाद देखा। विषय था ‘भारत विभाजन, हिंदुओं की अतृप्त आत्मा और अधूरी स्वतंत्रता!‘ इस...

0

मनोरोगियों की लिखी किताबें बच्चों को इतिहास कहकर पढ़ाना बन्द हो

रामेश्वर मिश्र पंकज। आज बाबू सरस्वती प्रसाद हम से मिलने आए थे।। हमारे बहुत पुराने मित्र। देश दुनिया की बातों में बड़ी रुचि रखते हैं। आज हमने उनसे निजी बात की। हमने कहा कि...

0

‘एक-सोच’ एनजीओ की संस्थापिका रितु राठी ने जम्मू-कश्मीर में लिया एक स्कूल गोद, उठाएगी लड़कियों की पढ़ाई का खर्च

“चलो जलायें दीप वहाँ, जहाँ अभी भी अँधेरा है” इस पंक्ति को चरितार्थ किया है गुजरात के सुप्रसिद्ध शहर सूरत की सामजसेविका रितु राठी (Ritu Rathi) ने। रितु राठी सूरत में ‘एक-सोच’ नाम से...

0

सतत सक्रिय, ध्येय साधक और प्रेरणा पुंज ‘हमारे चेतराम जी’

यह लेख एक ऐसे महान व्यक्तित्व के जन्म दिवस पर लिखा जा रहा हैं, जिनके लिए लोगों द्वारा व्यक्त की गई उपमायें कुछ ऐसी हैं: सेवाव्रती, कर्मठ स्वयंसेवक के साथ तत्वनिष्ठ कार्यकर्ता, सम्पर्क पुरोधा...

0

महर्षि वेदव्यास पर अनर्गल प्रलाप करते जग्गी!

राहुल सिंह राठौर ज्योतिषी। जग्गी वासुदेव को उत्तर भारतीयों ने अपने सिर आँखों पर बैठा रखा है, पर यह आर्य-द्रविड़ संघर्ष की मानसिकता से बाहर ही नहीं निकल पा रहे हैं। इनके अनुसार वेद...

0

हिन्दुओं को सद्भावना का पाठ पढ़ा कर विधर्मियों का साथ क्यों ?

सुभाष चन्द्र। सद्गुरु जग्गी – हिन्दुओं कोसद्भावना का पाठ पढ़ा करविधर्मियों का साथ क्यों देतेहो –इतिहास में उन्होंने क्याकिया और आज भी क्या कररहे हैं, ये तो ध्यान कर लेते – -गतांक से आगे...

1

सद्गुरु जग्गी वासुदेव हिन्दू समाज को जड़ से काटकर समाज को क्यों नष्ट करना चाहते हैं ?

सुभाष चन्द्र। सद्गुरु जग्गी -एक दिन में कितनेहिन्दू विरोधी पत्रकारों के “बाप”बन गए – कितने सेक्युलरिस्टों केआँख के नूर बन गए । मगर हिन्दू समाज को जड़ों सेकाट कर समाज को नष्ट करनाक्यों चाहते...

0

रेत-समाधिः बधाई लेकिन…?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक गीताजंलि श्री के उपन्यास ‘रेत-समाधि’ के अंग्रेजी अनुवाद ‘टाम्ब आफ सेन्ड’ को बुकर सम्मान मिलने पर हिंदी जगत का गदगद होना स्वाभाविक है। मेरी भी बधाई। मूल अंग्रेजी में लिखे गए...

0

बिल्ली और फेमिनिज्म : यात्रा

सोनाली मिश्रा। प्रकृति से दूर हुए मानव की निर्बलता देखनी है तो प्रसव क्रिया में देखिये. कल रात को अंतत: वह वह घड़ी आई जब वह बिल्लो उस पीड़ा से दो चार हो रही...

0

राजनीति, जनमानस और कुचक्र

राजीव नांदल। राजनीति वह पाठशाला है जहाँ मनुष्य कितना भी पढ़ ले सदा छात्र ही रहता है। इस पाठशाला में कोई मुख्य अध्यापक नहीं होता। जहाँ छात्र यह मान लेता है कि अब वह...

0

हिजाब या अलगाववादी षडयन्त्र

भारतीय संविधान के अनुसार प्राथमिक शिक्षा सबके लिए अनिवार्य है। किन्तु इस अनिवार्यता के बावजूद दुर्भाग्यवश स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में भी देश की कुल जनसंख्या का 36.90 फीसदी हिस्सा आज भी निरक्षर है।...

0

खुद की नौकरी छोड़कर युवाओं को रोजगार दिलाने का संकल्प लेकर निःशुल्क ट्रेनिंग सेंटर चलाने वाले शहडोल मध्यप्रदेश के डॉ. पंकज शर्मा

यह कहानी है मध्यप्रदेश के शहडोल  के डॉ पंकज शर्मा (जन्म: 4 जुलाई 1981) की जो एक सक्रिय समाजिक कार्यकर्ता हैं। जो अपनी प्रशिक्षक की नौकरी छोड़कर युवाओं को रोजगार दिलाने का संकल्प लेकर...

ताजा खबर