Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Category: व्यक्तित्व विकास

0

छूटे बैग को मजदूर को वापस करने वाले सिपाही सम्मानित!

अर्चना कुमारी। पुलिस कर्मियों के बारे में प्रचलित है कि वह रिश्वत कमाने तथा दूसरे का माल दबाने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते। लेकिन दिल्ली पुलिस के एक सिपाही ने मिसाल पेश करते...

0

धर्मांतरण आतंकवाद का डटकर मुकाबला करने वाली कल्पना सिंह को सौ-सौ सैल्यूट

दिलीप। भारत के कई राज्यों में सरकारें बदल चुकी हैं लेकिन इको सिस्टम आज भी नहीं बदला है इको सिस्टम पर आज भी जिहादियों कम्युनिस्टों और कांग्रेसियों को कब्जा है लेकिन इसी इको सिस्टम...

0

Ashwini upadhyay, एक ऐसा व्यक्तित्व जो राष्ट्र हित में अपनी Govt और सुप्रीम कोर्ट से टकराने से भी नहीं हिचकते!

चित्रांश सक्सेना। भारत के संविधान में कुछ विकृतियों को उजागर करते और जनता के समक्ष स्पष्टता से विचार रखते हैं अश्विनी उपाध्याय। जागरूकता अभियान छेड़ते और समाज एवं देशहित में कई याचिकाएं दायर करने...

0

कोरोना वायरस की डायरी के कुछ फटे हुए पन्ने : जैविक युद्ध, अध्यात्म, सामाजिक व्यवहार, फार्मा इंडस्ट्री, यूरोपीय मॉडल और बहुत कुछ!

आदित्य जैन। पहला फटा हुआ पन्ना : विश्व के सभी देशों में इस वायरस ने अपनी स्याही से वहां के राष्ट्रीय, सामाजिक, राजनीतिक, व्यक्तिगत आदि पन्नों पर अपनी कहानी लिख छोड़ी है । कहीं...

0

अच्छा नहीं, बेहतर बनने की कोशिश करें!

कमलेश कमल। अच्छा होना एक अस्पष्ट अवधारणा है, जबकि बेहतर बनना सुस्पष्ट है और परिणामकेन्द्रित है। अच्छा और बुरा वैसे भी सापेक्षिक शब्द हैं। इसलिए, होना यह चाहिए कि हमारा ध्येय हो कि हम...

0

कोरोनकाल में शिक्षा का अलख जगा रहे शशि प्रकाश सिंह

कोरोनाकाल में सभी छात्र-छात्राओं की पढ़ाई बाधित हो रही है। ऐसे छात्रों को कोटा में रहने वाले शिक्षाविद् शशि प्रकाश सिंह (एसपीएस सर) सहायता प्रदान करेंगे। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ निवासी शिक्षक शशि...

0

बिस्तर पर लेट गया हूँ…मन जगा है…आत्मा के कपाट की झीनी सी झलक है।

कमलेश कमल। जीवन की डोर सदा से ऐसी है…कब किसकी कट जाए…नहीं पता। एकदम से वही निर्णय– जब तक यह डोर नहीं कटती, लोगों को बचाना है, बचाते रहना है। बात साफ है– असमय...

0

पुलिसकर्मी बना देवदूत!

अर्चना कुमारी। एक महिला के लिए एक पुलिसकर्मी भगवान साबित हुआ ।  बताया जाता है कि एक ट्वीट पर दिल्ली पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर ने इंसानियत की मिसाल कायम करते हुए 21 माह...

0

विहिप ने की कोरोना से युद्ध की देशव्यापी तैयारी!

अर्चना कुमारी। राम के साथ राष्ट्र सेवा को समर्पित विश्व हिन्दू परिषद(विहिप) ने कोरोना की वैश्विक महामारी से जूझते भारतीयों को सम्बल प्रदान करने हेतु एक व्यापक कार्य योजना बनाई है। हालांकि इसमें से...

0

दिल्ली पुलिस आयुक्त ने बढ़ाया जवानों का हौसला!

अर्चना कुमारी। दिल्ली कोरोना की मार से कराह रही है लेकिन पुलिस के जवान जरूरतमंदों को मदद करने में आगे हैं । राजधानी में लोक डाउन के चलते लोग घर से कम निकल रहे...

1

शाबाश शंकर!

अर्चना कुमारी। राजधानी करोना की भयंकर चपेट में है और दिल्ली वासियों को केजरीवाल सरकार की बेवकूफी  के चलते जान गवानी पर रही है। अस्पताल में कोरोनाा मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है...

0

मृत्यु आखेट कर रही, हमें बचना है।

कमलेश कमल. आज संपूर्ण मानवजाति एक अदृश्य हमले से बेहाल-खस्ताहाल है। विधि की विडंबना ऐसी कि बड़े-बड़े विनाशक आयुध धरे रह गए और लगभग 10 ग्राम विषाणुओं ने पूरी धरित्री पर विनाश का वीभत्स...

0

पुष्प के सुवास का पता भ्रमर को कौन देता है?

कमलेश कमल. पुष्प के सुवास का पता भ्रमर को कौन देता है? आम्र-मंजरियों का ठिकाना कोयल को कैसे मिलता है? साइबेरिया के प्रवासी पक्षी सहस्त्र-योजन दूर भरतपुर की अनुकूल पारिस्थितिकी को कैसे जान जाते...

0

पढ़िए एक हिन्दू बेटी के साथ हुए षडयंत्रों की वह सत्य कथा जिसने इंजीनियर दीपक त्यागी को स्वामी यति नरसिंहानन्द सरस्वती बनने पर विवश कर दिया!

मैं यति नरसिंहानंद सरस्वती डासना देवी मन्दिर का महंत हूँ।आज आप लोगो को वो कहानी सुनाना चाहता हूँ जिसने मुझे हिन्दू बनाया। मेरे जैसे लोगो की कहानिया कभी पूरी नहीँ होती क्योंकि जीवन हम...

3

ये नव वर्ष हमें स्वीकार नहीं राष्ट्रकवि रामधारी सिंह “दिनकर” की रचना

ये नव वर्ष हमें स्वीकार नहींहै अपना ये त्यौहार नहींहै अपनी ये तो रीत नहींहै अपना ये व्यवहार नहीं धरा ठिठुरती है सर्दी सेआकाश में कोहरा गहरा हैबाग़ बाज़ारों की सरहद परसर्द हवा का...

0

चित्रकला और देश सेवा का अनूठा संगम – पुलिस जवान सुनीता नेगी

कई लोग कला को दीन दुनिया से परे, किसी अलौकिक वस्तु के तौर पर देखते हैं. आमतौर पर सोचा जाता है कि कलाकार्रों के मिजाज़ दूर कहीं बादलों में होते हैं. यानि उन्हे समाज...

3

वैदिक संस्कृति को आधुनिक परिवेश में पुनर्जीवित करते हुए – अभिनव गोस्वामी

भारत के उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू ने कल सिक्किम के एक विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से छात्रों को संबोधित किया. अपने संबोधन में उन्होने एक बेहद महत्व्पूर्ण बात कही...

0

मिलिये भारत के चाय बेचने वाले लेखक से – लक्ष्मण राव

एक बुजुर्ग आदमी सड़्क के किनारे बैठ चाय बेच रहा है. आप सोचेंगे कि अरे, मजबूरी भी कैसी चीज़ है, जो इंसान को बुढापे में भी रोज़ी रोटी की जद्दोजहद में पीस डालती है....

0

पुलिस के बेटे-बेटियों ने सिविल सेवा परीक्षा में कर दिया कमाल!      

सिविल सेवा परीक्षा में दिल्ली पुलिस परिवार के बेटे-बेटियों ने कमाल कर दिया। इस परिवार से एक या दो नहीं कुल 6 लोग चयनित हुए। इनमें दो प्रशिक्षु महिला एसीपी है। सबसे हैरान करने...

ताजा खबर