Author: Courtesy Desk

0

भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी RAW को कमज़ोर करने में गांधी परिवार की भूमिका

उपरोक्त हिंदी अनुवाद एस गुरूमूर्ति द्वारा 17 अप्रैल 2004 को न्यू इंडियन एक्सप्रेस में लिखे गए लेख का हिंदी अनुवाद है। हालांकि गुरूमूर्ति के उस लेख का वेब लिंक न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने हटा...

0

मोदी सरकार के कारण रामजन्मभूमि न्यास को मिल सकता है राम मंदिर बनाने के लिए 42 एकड़ जमीन!

राजीव सिन्हा:अयोध्या मामले में सरकार का नया दांव! केंद्र सरकार ने अयोध्या के विवादित स्थल को छोड़ अन्य जमीनों को मालिकों को वापस करने की मांगी इजाजत। राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवादित भूमि पर सुप्रीम...

0

जॉर्ज फ़र्नाडिस के जाने के साथ ही ज़मीन से जुड़ी राजनीति के एक भरे पूरे अध्याय का पटाक्षेप हो गया।

Hemant Sharma:यह एक तस्वीर आपातकाल की क्रूरता को अपनी सम्पूर्णता में दर्शाती है और जार्ज फ़र्नाडिस के पत्थर पर सिर टकराने के जज़्बे की बानगी भी है। जार्ज का जाना भारत की राजनीति से...

0

ऐसे समय में जब अंग्रेजी जैसी विदेशी भाषा का वर्चस्व बढ़ता ही जा रहा है, हमारी हिंदी लहरों की तरह अनवरत समृद्धि की तरफ अग्रसर है!

एक डोर में सबको जो है बाँधती वह हिंदी है, हर भाषा को सगी बहन जो मानती वह हिंदी है। भरी-पूरी हों सभी बोलियां यही कामना हिंदी है, गहरी हो पहचान आपसी यही साधना...

0

राफेल पर CAG को लेकर कांग्रेस और उसके इको सिस्टम द्वारा फैलाए गए भ्रम के जाल को अरुण जेटली ने तोड़ा!

राफेल डील को लेकर कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा फैलाए गए झूठ पर सुप्रीम कोर्ट ने करारा प्रहार कर उसे तहस नहस कर दिया। अब जब कांग्रेस और इको सिस्टम ने सुप्रीम...

0

भगवान कृष्ण ने शरद पूर्णिमा की आधी रात को वृंदावन में 16000 गोपिकाओं के साथ किया था रास!

हेमंत शर्मा। इस महारास की खासियत थी कि हर गोपिका को कृष्ण के साथ नाचने का आभास था, उनका आनंद अटूट था। ‘निसदिन बरसत नैन हमारे. सदा रहत पावस ऋतु हम पर जब ते स्याम...

0

अपार शक्ति के बावजूद राम मनमाने फैसले नहीं लेते, वे लोकतांत्रिक हैं।

पूर्व में जनसत्ता में काम करने और हिंदी के बड़े आलोचक वनामवर सिंह के शिष्य होने के कारण कुछ लोग वरिष्ठ पत्रकार और लेखक हेमंत शर्मा को वामपंथी कह देते हैं, लेकिन यह सच...

0

जीवन में चहकने और फुदकने के मायने भी हमने गौरैया से सीखे!

हेमंत शर्मा। गौरैया, अम्मा और आंगन. मेरे बचपन की ये यादें हैं. अम्मा रहीं नहीं. अब घरों में आंगन भी नहीं रहे. गौरैया भी मेरे घर आती नहीं. मेरी वे यादें छिन गईं, जिन्हें...

0

पूरे संसार के प्राचीन साहित्य को खंगाल डालिए, द्यूत-क्रीड़ा (जुआ) का ऋग्वेद जैसा सुन्दर काव्यात्मक वर्णन नहीं मिलेगा!

जुआ, सुनकर थोड़ा अजीब लगता है, लेकिन खेलने वाले के लिए इससे बड़ा कोई नशा नहीं। लेकिन क्या आपको पता है कि जुए का इतिहास क्या है? और क्या आपको पता है कि ऋग्वेद...

0

काशी में खुदाई के दौरान मिल रहे हैं तीन से पांच हजार साल पुराने मंदिर!

अवनीश पी. एन. शर्मा।  श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर काॅरिडोर के काम के तहत अधिग्रहित भवनों के तोड़े जाने के दौरान हैरान करने वाली तस्वीरे सामने आ रही हैं। जिसमें चंद्रगुप्त काल से लेकर लगायत मंदिरों...

0

अब न वह गंगा है, न आस्था, और न कार्तिक पूर्णिमा की वह धार्मिकता!

हिंदू धर्म में कार्तिक, कार्तिक पूर्णिमा, कार्तिक में गंगा स्नान, देवदीपावली की महत्ता आदि आप इस एक लेख से जितना जान पाएंगे, उतना ढूंढ़ने पर भी आप शायद न पढ पाएं! आज के समय...

0

आखिर शिव में ऐसा क्या है, जो उत्तर में कैलास से लेकर दक्षिण में रामेश्वरम तक वो एक जैसे पूजे जाते हैं?

शिव गुट निरपेक्ष हैं. सुर और असुर दोनों का उनमें विश्वास है. राम और रावण दोनों उनके उपासक हैं।आखिर शिव में ऐसा क्या है, जो उत्तर में कैलास से लेकर दक्षिण में रामेश्वरम तक...

0

‘ड्राईवर सत्य जगत मिथ्या’, अतः हे मित्र! ड्राइवर के मजनू चरित्र से मुक्ति पाएं, भलाई इसी में है

वरिष्ठ पत्रकार और लेखक हेमंत शर्मा जी द्वारा पत्रकार साथी अजीत अंजुम के ड्राइवर की इश्कबाजी और उनकी परेशानियां पर लिखे इस व्यंग्य को जरूर पढ़ें। हंस के लोट-पोट तो होंगे ही, साथ ही...

0

नरेंद्र मोदी बनाम सोनिया-मनमोहन की सरकार! तय कीजिए, कौन है असली फासीवादी!

अनंत विजय। साहित्य, कला और संस्कृति को लेकर इस देश में बहुधा विवाद होते रहते हैं। कोई कार्यक्रम हो जाए तो विवाद, कोई कार्यक्रम टल जाए तो विवाद। कोई नियुक्ति हो जाए तो विवाद,...

0

मुझे लगा कि जिस कन्धे पर मेरे हाथ हैं वे तो ‘स्लीवलेस’ हैं! वह कोई भद्र मोहतरमा थी!

वरिष्ठ पत्रकार और लेखक हेमंत शर्मा का व्यंग्य बेदह धारदार, चुटीला और प्रवाहमान होता है। उनकी एक पुस्तक ‘तमाशा मेरे आगे’ में ऐसे ही व्यंग्य भरे पड़े हैं, जिसमें से एक ‘केसन असि करी’...

0

नोटबंदी पर सवाल उठाने वालों, पहले इसके 101 फायदे तो गिन लो

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की गई नोटबन्दी फेल हो गयी कहने वालों को इसके 101 फायदे जरुर बताएं ताकि अगली बार सवाल पूछने वाले सौ बार सोचे! सौ सवालों के एक सौ एक जवाब...

0

आयकर विभाग के 500 से अधिक घंटे की टेप में हुआ बड़ा खुलासा

जितेन्द्र चतुर्वेदी। एपी का मतलब अहमद पटेल तो नहीं! ‘शिंदे’, ‘भारद्वाज’ और ‘के नाथ’ तक आते-आते रहस्य खुल जाता है। मोइन कुरैशी और पूर्व सीबीआई निदेशक एपी.सिंह की बातचीत में इन नामों का जिक्र...

0

क्यों और कैसे मनाते हैं छठ महापर्व?

कमलेश झा । भारत की विविध संस्कृति का एक अभिन्न अंग यहां के पर्व हैं। भारत में ऐसे कई पर्व मनाए जाते हैं जो बेहद कठिन माने जाते हैं और इन्हीं पर्वों में से...

ताजा खबर