Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Author: Courtesy Desk

0

भ्रष्टाचार पर योगी सरकार की सख्ती! अधिकारियों समेत 2100 लोग पहुंचे सलाखों के पीछे, 50 PCS अफसरों पर भी कसा शिकंजा

एंटी करप्शन विभाग ने पिछले साढ़े चार साल में करीब 660 मामले निस्तारित किए हैं. जिसमें पुलिस विभाग के 222, दूसरे विभागों के 515 और 50 आम लोगों पर भी भ्रष्टाचार को लेकर कार्यवाही...

0

संघ परिवार: मुस्लिम वोट-लालसा का शिकार

Sangh Parivar Muslim vote कितना दुःखद कि सौ सालों से भारत के हिन्दू तरह-तरह के झूठे नारों से भ्रमित किए जा रहे हैं। हिन्दू धर्म का मूलाधार है – सत्य। इसे छोड़ कर नेतालोग...

0

मोदी सरकार ने फिर से लटकाया CAA को।

जय आहूजा। कल दिनांक 28जुलाई को लोकसभा में भारत के गृहराज्य मंत्री श्री नित्यानंद राय जी कहा कि सरकार राष्ट्रपति महोदय से #CAA के नियम बनाने के लिये जनवरी 2022 तक की समयावधि बढ़ाने...

0

तो लखनऊ में लगी तमाम मूर्तियों में कोई मूर्ति तिलक, तराजू या तलवार का भी प्रतिनिधित्व क्यों नहीं करती

दयानंद पांडेय। कांशीराम कभी अयोध्या में राम मंदिर की जगह शौचालय बनवाना चाहते थे। जो लोग कभी अयोध्या में राम मंदिर की जगह शौचालय , अस्पताल और विद्यालय बनाने की बात करते थे ,...

0

डायरी-9: मिशन तिरहुतीपुर

विमल कुमार सिंह। गांव की जरूरतः हार्डवेयर या साफ्टवेयर? गोविन्दजी का तिरहुतीपुर गांव में दशहरा वाला कार्यक्रम बहुत अच्छे से संपन्न हो गया। लोगों की अपेक्षा थी कि अब हम गांव के हार्डवेयर पर...

0

सिद्दू की ताजपोशी का क्या है त्रिकोण? सोनिया परिवार की पार्टी पर कब्जे की लड़ाई पर अमित श्रीवास्तव की एक रिपोर्ट।

अमित श्रीवास्तव। कैप्टन अमरिंदर सिंह काँग्रेस के एकमात्र ऐसे नेता है जो अपने दम पर चुनाव जीतने की क्षमता रखते हैं। यह क्षमता अब सोनिया गांधी में नहीं बची है और राहुल व प्रियंका...

0

आप के रोल माडल आखिर बिन लादेन, बगदादी, बुरहान वानी या ज़ाकिर नाईक जैसे हरामखोर आतंकवादी ही क्यों हो गए हैं ?

दयानंद पांडेय। हमारे कुछ मुस्लिम दोस्त हैं जो कुतर्क के ढेर सारे अमरुद बेहिसाब खाते जा रहे हैं । उन को गुमान बहुत है कि मुसलमानों ने इस देश को बहुत कुछ दिया है।...

0

मिशन तिरहुतीपुर डायरी-8

विमल कुमार सिंह। मैं गांव गोद नहीं लूंगा। विजयदशमी के दिन 26 अक्टूबर, 2020 को सुबह-सुबह गोविन्दाचार्य जी मेरे घर पर आ गए थे। जैसा कि मैं पहले बता चुका हूं, तिरहुतीपुर ग्राम पंचायत...

0

हमन इश्क मस्ताना बहुतेरे

दयानंद पांडेय। लगता है नर्मदा किनारे प्रभाष जोशी की देह नहीं जली है, मैं ही जल गया हूं। प्रभाष जोशी तो मुझ में ज़िंदा हैं। मेरी कलम में उन के हाथ सांस ले रहे हैं।...

0

अगर सोशल साइट नहीं होते तो यह अख़बार मालिकान और उन के कुत्ते संपादक और इन संपादकों के पिल्ले पत्रकार आप को कब का बेच कर भून कर खा चुके होते

दयानंद पांडेय। 1977 में जनता पार्टी की सरकार में सूचना प्रसारण मंत्री रहे लालकृष्ण आडवाणी ने इमरजेंसी के समय की पत्रकारों की स्थिति पर तंज करते हुए कहा था कि आप को तो बैठने...

0

पुलिस इनकाउंटर से जान बचा कर मुलायम सिंह यादव इटावा से साइकिल से खेत-खेत दिल्ली भागे

दयानंद पांडेय। बहुत कम लोग जानते हैं कि जब विश्वनाथ प्रताप सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री थे तब मुलायम सिंह यादव को इनकाउंटर करने का निर्देश उत्तर प्रदेश पुलिस को दे दिया था।...

0

मिशन तिरहुतीपुर डायरी-7

विमल कुमार सिंह। “कर्स आफ नालेज” से बचने की कोशिश कोरोना काल-1 में कई महीनों के चिंतन-मनन और पठन-पाठन के बाद 16 अक्टूबर, 2020 के दिन मैं पत्नी के साथ गांव के लिए रवाना...

0

पुराणों की प्राचीनता पर एक शोधपूर्ण नजर!

पुराणों पर मध्यकाल से ही विवाद होता आया है। अंग्रेज काल में अंग्रेजों ने इसे अप्रमाणिक ग्रंथ कहना शुरू किया था फिर उनका अनुसारण हमारे यहां के तथाकथित इतिहासकारों ने भी किया। कहते हैं...

0

संघ-परिवार: एकता का झूठा दंभ

शंकर शरण। उस से पहले तक डॉ. हेगडेवार की दलीय नीति बिलकुल ठीक थी। कि जिस स्वयंसेवक में राजनीति रुचि हो वह कांग्रेस में काम करे। यही चल भी रहा था। सेक्यूलरवादी, हिन्दूवादी, समाजवादी, आदि सभी उस...

0

संघ परिवार और मौलाना वहीदुद्दीन

शंकर शरण। मौलाना वहीदुद्दीन जमाते इस्लामी के नेता और तबलीगी जमात  के सिद्धांतकार थे। अपनी पुस्तक ‘तबलीगी मूवमेंट’  में उन्होंने गदगद होकर तबलीग का इतिहास लिखा है, जो भारत से हिन्दू धर्म-परंपरा का चिन्ह...

0

संघ-परिवार का उतरता रंग

शंकर शरण। इन दिनों संघ-परिवार पर हैरत बढ़ गई है। विशेषकर, शाहीनबाग पर सड़क कब्जा, जामिया-मिलिया से लेकर कई जगहों पर दिल्ली पुलिस पर हमले, लाल किला पर देश-विरोधी उपद्रव, और अब बंगाल में...

0

संघ-परिवार: बड़ी देह, छोटी बुद्धि

शंकर शरण। संघ के सदाशयी लोगों को समझना होगा कि हिन्दू समाज और सच्ची चेतना मूल शक्ति है। कोई संघ/दल नहीं। चेतना ही संगठन का उपयोग करती है। इस का उलटा असंभव है। घोड़े...

ताजा खबर