न्यायपालिका ने सोनिया-राहुल के हेराल्ड हाउस को सील होने से बचाया!



Rahul-Sonia (Photo Courtesy ZEE News)
ISD Bureau
ISD Bureau

गांधी परिवार और दूसरी पार्टियों के अन्य नेताओं में एक अंतर देखा गया है, वह यह कि सारी स्वायत्तशासी संस्थाओं से हारने के बाद भी गांधी-नेहरू परिवार को कोर्ट से राहत मिल जाती है। जबकि दूसरे नेता सारी संस्थाओं से बरी होने के बाद भी कोर्ट में आकर दोषी ठहरा दिए जाते हैं। हेराल्ड हाउस मामले में भी एक बार यही देखने को मिला है। दिल्ली हाईकोर्ट ने हेराल्ड हाउस को सील करने से मना कर, सोनिया और राहुल गांधी को बहुत बड़ी राहत दे दी है।

मुख्य बिंदु

हेराल्ड हाउस की लीज निरस्त किए जाने के बाद भी कोर्ट ने यथास्थिति बनाए रखने का दिया आदेश

मालूम हो कि नेशनल हेराल्ड प्रकाशित करने के लिए आवंटित हेराल्ड हाउस को सील करने का नोटिस जारी किया गया था। 15 नवंबर तक उसे सील करना था, लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने ऐन वक्त पर उस आदेश पर स्टे लगा दिया है। जबकि जांच में यह पाया गया था कि जिस उद्देश्य के लिए हेराल्ड हाउस को जमीन आबंटित की गयी थी उसका अब सरासर उल्लंघन हो रहा है। जिस अखबार का प्रकाशन होना था वह 2008 में ही बंद हो चुका है। यहां तक कि सोनिया-राहुल गांघी की यंग इंडियन कंपनी ने अवैध रूप से हेराल्ड हाउस का अधिग्रहण कर लिया है।

इसी आधार पर शहरी विकास मंत्रालय ने हेराल्ड हाउस को 15 नंवबर तक सील करने का नोटिस जारी किया था। लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने लीज निरस्त हो जाने के बाद भी हेराल्ड हाउस को सील नहीं करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने वहा यथास्थित बनाए रखने का आदेश दिया है। हेराल्ड हाउस के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील तथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने दलील पेश की जब कि सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुसार मेहता ने कोर्ट से और समय देने की मांग की।

URL: Judiciary saved Sonia-Rahul’s Herald House from being sealed

Keywords: indian Judiciary, herald house, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Herald House not sealed, भारतीय न्यायपालिका, हेराल्ड हाउस, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, हेराल्ड हाउस सील नहीं


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

ISD Bureau
ISD Bureau
ISD is a premier News portal with a difference.