गूगल, ट्वीटर, फेसबुक, नेटफ्लेक्स तथा अमेजन जैसी विदेशी कंपनियों को जियो के सहारे बाहर करने की योजना पर काम कर रहे हैं मुकेश अंबानी!

फोर जी डेटा से लैस जियो फोन लॉन्च कर मोबाइल फोन मार्केट में तहलका मचा देने वाले रिलांयस इंडस्ट्री के चेयरमैन तथा प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने अपनी नजर अब इंटरनेट तथा वीडियो स्ट्रीमिंग मार्केट पर गड़ा दी है। इस क्षेत्र में आने से पहले ही उन्होंने कह दिया है कि उनकी प्रतियोगिता किसी क्षेत्रीय या देसी सेवा या उत्पाद प्रदाता से नहीं है। यह बात उन्होंने जियो फोन लॉन्च के समय में कही थी। उन्होंने स्पष्ट कहा है कि वे अपना प्रतिद्वंद्वी गूगल, ट्वीटर, फेसबुक, नेटफ्लेक्स तथा अमेजन जैसी विदेशी कंपनियों को मानते हैं जो हमारे देश पर राज कर रही हैं। इसलिए इन कंपनियों को देश से निकाल बाहर करने के लिए इंटरनेट तथा वीडियो स्ट्रीमिंग मार्केट में उतरने की योजना बना रहे हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज न केवल सौ से भी अधिक चैनल युक्त टिवी सेवा उपलब्ध कराएगा बल्कि डिजिटल पेमेंट सिस्टम भी शुरू करने वाला है। संगीत संग्रह लाइब्रेरी के साथ हेल्थ केयर के अलावा लाइफ स्टाइल उत्पाद भी लाने वाला है।

पहला कदम के रूप में रिलायंस ने जियो ब्राउजर लॉन्च किया

इंटरनेट मार्केट में पैर जमाने के लिए रिलायंस जियो ने एंड्रॉयड उपभोक्ताओं के लिए अपना पहला वेब ब्राउजर शुरू कर दिया है। जियो की सफलता को देखते हुए अपने पहले ब्राउजर का नाम भी जियो ब्राउजर रखा है। भारतीय उपभोक्ता की पसंद को ध्यान में रखते हुए इसे काफी लाइट और यूज करने में आसाना बनाया गया है। इस ब्राउजर को अभी गूगल प्लेस्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। रिलायंस अपने इस नए ब्राउजर में लेटेस्ट वीडियो देखने और न्यूज पढ़ने की सुविधा है। इसके साथ ही इस ब्राउजर से सीधे किसी दूसरी वेबसाइट पर जाने की सुविधा है। यह ब्राउजर अभी 8 भारतीय भाषाओं में लॉन्च किया गया है।

रिलायंस व्हाट्सएप को चुनौती देने वाला मैसेजिंग एप भी ला रहा है

रिलायंस इंटरनेट से जुड़े हर क्षेत्र में अब अपना हाथ आजमाने को तैयार है। वह चाहे सोशल साइट्स हो या फिर ऑनलाइन मार्केटिंग या इंटरनेस सेवा हो। रिलायंस व्हाट्सएप को टक्कर देने के लिए अपना मैसेजिंग एप लेकर आ रहा है।

ऑनलाइन शॉपिंग से देगा वालमार्ट को टक्कर

रिलायंस इंडस्ट्रीज अब ऑनलाइन शॉपिंग में उतरने की भी योजना बना रही है। ऑनलाइन शॉपिंग की जो सुविधा अब देशवासियों को वालमार्ट के माध्यम से मिला करता था वही सुवीधा रिलायंस अपने देशवासियों को देगा। मालूम हो कि विदेशी कंपनी वालमार्ट ने भारतीय खुदरा विक्रेता कंपनी फ्लिपकार्ट को खरीदकर ही भारत के ऑनलाइन खुदरा व्यापार में शामिल हुआ था। वालमार्ट जैसी विदेशी कंपनियों को देश से निकाल बाहर करने के लिए रिलायंस ने इस क्षेत्र में आने की योजना बनाई है।

फेसबुक तथा ट्वीटर जैसे सोशल मीडिया साइट्स से भी निपटने की तैयारी

रिलांयस इंडस्ट्रीज न केवल आनलाइन शॉपिंग या इंटरनेट से जुड़ी सुविधाएं देने की योजना पर काम कर रहा है बल्कि वह देशवासियों को अपना सोशल साइट्स भी देने की योजना बना चुका है। जिस प्रकार फेसबुक और ट्वीटर जैसी सोशल साइट्स मनमाने ढंग से भारतीय उपभोक्ताओं के साथ बर्ताव कर रही है उसी को ध्यान में रखते हुए इंडस्ट्रीज अपनी सोशल साइट्स लाने की योजना पर काम कर रहा है। मालूम हो कि विदेश से संचालित ये सोशल साइट्स भारतीय यूजर्स की पोस्ट को अपने हिसाब से संचालित करती है। हमारी पोस्ट में क्या कंटेट हों या नहीं हो यह भी हम नहीं तय करते हैं।

अपने पहले चरण में मिली सफलता और लाभ को देखकर ही रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी ने दूसरा चरण शुरू करने की योजना बनाई है। वैसे तो पहले चरण में उनके निशाने पर विदेशी फोन प्रदाता कंपनियां ही थी। लेकिन इस बार खासकर देश के पैसे पर राज करने वाली वो विदेशी कंपनियां हैं जो हमारे यूजर्स के साथ भेदभाव करती हैं। रिलायंस इंडस्ट्रिज ने साफ शब्दों में कह दिया है कि इंटरनेट और वीडियों स्ट्रीमिंग मार्केट में उतरने का उनका उद्देश्य क्या है। आज डेटा भी तेल की तरह अनमोल संपत्ति बन गया है। आने वाले समय में जिसके पास जितना डेटा होगा वह उतना धनवान माना जाएगा।

इस लिहाज से देखें तो डेटा के मामले में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले ही धनवानों की सूची में शामिल हो चुका है। क्योंकि स्वयं मुकेश अंबानी का कहना है कि जियो परिवार के पास इस समय 280 मिलियन जियो फोन तथा इंटरनेट केबल के माध्यम से मजबूत डेटा इकट्ठा हो चुका है। इतना डेटा किसी और के पास होना असंभव है । इसलिए डेटा के हिसाब से देखा जाए तो रिलायंस ने तो आधी बाजी पहले ही मार ली है।

 

भारत में तेजी से बढ़ रहा है इंटरनेट का प्रचलन

. देश में हर यूजर औसतन एक महीने में 11 जीबी डाटा यूज करता है

. फोन पर हर यूजर औसतन एक महीने में 794 मिनट बात करता है

. देश में ऑनलाइन वीडियो देखने वालों की संख्या भी बढ़ी है और समय भी

. वीडियो देखने के मामले में वैश्विक औसत से कही अधिक भारत का औसत है

. वीडियो देखने के मामले में हर महीने 460 करोड़ घंटा का इजाफा हो रहा है

. लाइम लाइट नेटवर्क के सर्वे के मुताबिक वीडियो देखने का समय बढ़ रहा है

. हर यूजर औसतन एक सप्ताह में आठ घंटे और 28 मिनट वीडियो देखता है।

. भारत में टिवी देखने वालों की संख्या और समय दोनों में कमी आई है

. वीडियो देखने के मामले में भारत का औस वैश्विक औसत कहीं अधिक है

. वीडियो देखने के मामले में वैश्विक औसत प्रति सप्ताह 6 घंटा 45 मिनट प्रति यूजर है

. जबकि भारत में यह औस आठ घंटा 28 मिनट प्रति सप्ताह प्रति यूजर है

 

URL : Jio services of Reliance now include attractive online services!

Keywords : Reliance Industries, Mukesh Ambani, Jio Services, Social Sites

आदरणीय पाठकगण,

ज्ञान अनमोल हैं, परंतु उसे आप तक पहुंचाने में लगने वाले समय, शोध और श्रम का मू्ल्य है। आप मात्र 100₹/माह Subscription Fee देकर इस ज्ञान-यज्ञ में भागीदार बन सकते हैं! धन्यवाद!  

For International members, send PayPal payment to [email protected] or click below

Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Branch: GR.FL, DCM Building 16, Barakhamba Road, New Delhi- 110001
SWIFT CODE (BIC) : HDFCINBB
Paytm/UPI/Google Pay/ पे / Pay Zap/AmazonPay के लिए - 9312665127
WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9540911078

You may also like...

Write a Comment

ताजा खबर
Popular Now