Category: ब्लॉग

0

मूल मनु-स्मृति के रचयिता महाराज मनु नहीं थे! तो फिर कौन थे?

मैंने परसों एक प्रश्न पूछा था कि मनु-स्मृति के रचयिता कौन थे, और इसका उल्लेख सर्वप्रथम किस ग्रंथ में आया है? मुझे दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि एक भी जवाब सही...

0

Facebook & Twitter पर अपना एकाउंट बचाना है तो बाली-वध का तरीका सीखिए!

बहुत सारे राष्ट्रवादियों के फेसबुक खाते, पोस्ट, वीडियो आदि डिलीट होने की शिकायत आ रही है। निम्न बिंदुओं पर ध्यान देकर आप अपना खाता बचा सकते हैं:-   १) अपने वाल को सुरक्षित रखने...

0

मैं आज #SheToo की साजिश का शिकार होते-होते बचा! यह वामपंथियों का कोई ट्रैप था या सिर्फ एक घटना

मैं बेहद शॉक्ड हूं। मैं #SheToo की साजिश साजिश का शिकार होते-होते बचा, या फिर यह बस एक दुर्घटना थी? मैं समझ नहीं पा रहा हूं। मैं चाहूंगा कि सोशल मीडिया पर मौजूद महिलाएं इसमें...

0

आइए वामपंथी महिलाओं के खिलाफ #SheToo अभियान छेड़ें

मैंने आपसब के कहने पर अपने साथ मेट्रो में हुई #MeToo घटना पर मेट्रो में ऑन-लाइन शिकायत दर्ज करा दिया है, लेकिन मेरी जिम्मेदारी इतने पर समाप्त नहीं होती! मैं #SheToo नाम से #Indiaspeaksdaily...

0

अंग्रेजी पत्रकारों को हिंदी समझ में नहीं आती, इसलिए अर्थ का अनर्थ करने में माहिर हैं!

अंग्रेजी लेखकों और पत्रकारों की सबसे बड़ी दिक्कत है कि वह हिंदी ठीक से समझ नहीं पाते, इसीलिए अर्थ को अनर्थ करने में भी देर नहीं लगाते। इतिहासकार और प्रसिद्ध लेखिका मीनाक्षी जैन की...

0

हिंदी के मौलिक लेखन से जब अंग्रेजी लेखन को चुनौती मिलती है, तो उसके खिलाफ उसी तरह प्रोपोगंडा फैलाया जाता है, जैसा कि आजकल ‘युद्ध में अयोध्या’ के लेखक हेमंत शर्मा के खिलाफ संगठित रूप से फैलाया जा रहा है!

अयोध्या इस समय देश का सबसे हॉट टॉपिक है। ऐसे समय में वरिष्ठ पत्रकार हेमंत शर्मा की अयोध्या पर प्रभात प्रकाशन से प्रकाशित दो पुस्तकें ‘युद्ध में अयोध्या’ और ‘अयोध्या का चश्मदीद’ हाल ही...

0

2019 के चुनाव तक ‘पंच-मक्कारों’ के हर झूठ को नेस्तनाबूद करने के लिए क्या आप तैयार हैं?

आप जानते हैं कि राष्ट्रवादियों व दक्षिणपंथियों का पोस्ट या पेज फेसबुक से डिलीट क्यों हो रहा है? क्योंकि भारत में फेसबुक का हेड एक कांग्रेसी है, जो राहुल गांधी के करीब है। आज...

0

मैं, मेरा बचपन और शास्त्रीजी!

शास्त्री जयंती पर विशेष। मैं, मेरा बचपन और लालबहदुर शास्त्रीजी! मैं तब आठवीं में था। सरकारी छात्रवृत्ति के कारण पटना से निकल कर उदयपुर के विद्याभवन स्कूल में पढ़ने पहुंचा था। मेरे जीवन में...

0

राष्ट्रवादियों का नया बौद्धिक केंद्र निर्मित। हर माह चार अलग अलग कार्यशालाओं में दिया जाएगा प्रशिक्षण!

हमारा कार्यालय लगभग तैयार है। नोएडा, सेक्टर-२, बी-७, नोएडा सेक्टर-१५ मेट्रो स्टेशन के नजदीक अगले महीने से आप सब पधार सकते हैं। यहां से शिक्षण संस्थाएं और इंडिया स्पीक्स डेली चला करेगी। इसके अलावा...

0

लड़िए या मिटिए, और कोई चारा नहीं है।

दोस्तों क्षमा चाहता हूं। काफी सारे लोग मैसेज कर रहे हैं कि आजकल आप facebook.com/IndiaSpeaksDaily पेज से #FBlive नहीं करते? दोस्तों आप सबको बताया था कि हमारा कार्यालय नोएडा, सेक्टर-२ में नयी बिल्डिंग में...

0

एक दलाल पत्रकार के भ्रष्टाचार को उजागर क्या किया, कुछ जातिवादियों ने मेरी जाति को लेकर ही मुझ पर हमला बोल दिया!

भारत में कब भ्रष्टाचार जाति में बदल जाता है, यह पढ़ता था, लेकिन क्या पता था कि मुझे इसे भुगतना भी पड़ेगा? भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन जब मैच फिक्सिंग में फंसे...

0

इंडिया स्पीक्स डेली हर उस देशवासी के लिए अपना है जो अपने देश से प्रेम करता है!

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया! सम्मानित बंधुओं, आप सभी बंधुओं का बहुत-बहुत धन्यवाद कि आप इंडिया स्पीक्स डेली के राष्ट्र निर्माण मुहिम में जुड़...

0

यह रहा सबूत कि ‘आप’ समर्थक दिल्ली के एक हैकर ने मेरे फेसबुक एकाउंट को किया था हैक!

अभी से करीब एक घंटे पहले दिल्ली के एक आम आदमी समर्थक हैकर ने मेरे फेसबुक एकाउंट को हैक किया था। इसका सबूत सामने है। आप इस स्क्रीन शॉट में दूसरे नंबर के डिवाइस...

0

हिंदू हैं तो चाणक्य की तरह कुटिल बनिए, अभिमन्यु की तरह निर्दोष नहीं!

कुछ लोगों के कारण कल मुसीबत में फंसना पड़ा। इटालियन बहु के वीडियो वाली पोस्ट कर कुछ लोगों ने उनके लिए जमकर अपशब्दों का प्रयोग किया, गुस्से वाली इमोजी का प्रयोग किया। हो सकता...

0

जिनकी वजह से राजनीति की मेरी समझ विकसित हुई, वह अटल हैं!

मैं भी राजनीति से उदासीन एक युवा था। राजनीति को अछूत समझता था। कोई रुचि नहीं थी मेरी राजनीति में। तब पहली बार अटल बिहारी वाजपेयी जी का भाषण सुना था। 1996 में वह...

0

इंडिया स्पीक्स अंग्रेजी के साथ बंगाली, मलयालम, तमिल भाषा में भी आनी चाहिए। घुन की तरह देशद्रोही हर जगह हैं!

कई मित्रों के फोन और मैसेज आए। कहा, संदीपजी, हम इंडिया स्पीक्स को जो डोनेशन भेज रहे हैं, उसमें मेरा नाम प्लीज उजागर न करें! 1) एक मित्र ने कहा कि मेरी जिंदगी खतरे...

0

वामपंथी वेब वायर, प्रिंट आदि को नंदन निलेकणी से लेकर आमिर खान तक डोनेट कर रहे हैं, हमारे लिए तो आम लोग ही हैं!

इंडिया स्पीक्स को चलाने के लिए मैंने आप सबसे एक अपील की थी कि आर्थिक रूप से सक्षम एक हजार साथी यदि हर महीने एक हजार रुपये का डोनेशन दें तो एक बड़ी टीम...

0

राष्ट्रवादी साथियों से एक अनुरोध…

#IndiaSpeaksDaily को सपोर्ट करने के लिए आप सबका धन्यवाद! कल एक दिन में 60 हजार से अधिक ट्रैफिक आ गया, जिसके कारण कई लोगों को वेब ओपन करने में दिक्कत आयी, जिसके लिए क्षमाप्रार्थी...

0

राहुल गांधी से लेकर रवीश कुमार तक, झूठ का वह मनोविज्ञान, जिसकी काट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तुरंत ढूंढ़ना होगा, अन्यथा देर हो जाएगी!

आजकल कांग्रेस अध्यक्ष और उनके ‘पीडी पत्रकारों’ के झूठ बोलने का तरीका एक-सा हो गया है! और यह एकदम वही तरीका है, जिसे हिटलर के प्रचारमंत्री गोयबल्स ने अपनाया था। यानी- ‘एक झूठ को...

0

बरखा दत्त राहुल गांधी की ‘मेट्रोसेक्सुअल पर्सानालिटी’ पर रिझी हुई है, तो सागरिका घोष उसके प्रति ‘ऑब्जेक्टिव एंग्जाइटी’ की शिकार है!

महिला पत्रकार बरखा दत्ता द्वारा राहुल गांधी के ‘आलिंगन-पोलिटिक्स’ पर लिखे गये लेख का फ्रायडियन मनोविज्ञान के आधार पर विश्लेषण किया गया है। इस लेख को वही लोग समझ सकते हैं, जिन्होंने मेरा कल...

समाचार