Featured News

क्रॉस पहनने वाले मूर्खों देखो यूरोप के चर्च कैसे वीरान पड़े हैं!
जर्मनी सहित पूरे यूरोप के चर्च खाली हो रहे हैं। झूठ की नींब पर खड़े ईसायत से लोगों का मोहभंग हो रहा है। वीरान हो रहे चर्च में पब, बार और रेस्टोरेंट खुल रहे
ईसा, भारत और मतान्तरण का धंधा!
अभिजीत। आज से तकरीबन दो हज़ार साल पहले जब यहूदिया के बैतलहम में एक बालक का जन्म होने वाला था तो उसके जन्म से काफी पूर्व हिमालय की गुफाओं में बैठे कुछ योगियों को ये मालूम हो गया था कि यहाँ
भारत के सर्वांग एकीकरण के पक्षधर सरदार पटेल पर एक अनुपम कृति!
हिंदी और अंग्रेज़ी के सुप्रतिष्ठित लेखक और अनेक कालजयी उपन्यासों के रचनाकार श्री Amarendra Narayan ने हिंदी में ‘एकता और शक्ति’ और अंग्रेज़ी में यूनिटी एण्ड
IIP फाउंडेशन ने थामी स्वछता के लिए मशाल!
कचरे से सम्पूर्ण आज़ादी के लिए IIP फाउंडेशन ने मशाल प्रज्वलित की है! जिसकी शुरुवात गांधी जी को याद करते हुए हुई। IIP के डायरेक्टर राजेश गोयल ने स्वछता के जिस मिशन को हाथ में लिया
सेना के प्रति कुत्सित विचारधारा वालों के मुंह पर एक छोटी बच्ची का जोरदार तमाचा!
सोचिये आप रास्ते से जा रहे हैं कोई आपके कॉलर पकड़ आपको थप्पड़ मारे तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी? आप कोई ना कोई प्रतिक्रिया अवश्य देंगे चाहे
आप रोते रहें, देश 'बुलेट ट्रेन' की तरह बढ़ता जाएगा...
मोदी जी बुलेट ट्रेन क्यों ला रहे हैं ? इसकी जरूरत ही नहीं है अभी क्योंकि अभी देश में गरीबी है, बेरोजगारी है, सड़कें-बिजली-पानी की समस्या है, हमारी वर्तमान रेल ही ठीक
वामाचार और वज्रयानी तंत्र साधना पर और अधिक जानना है तो...!
नारीवाद Vs नारी शोषण वाले कल के #FBLive के बाद जो लोग 'वामाचार' और वज्रयानी तंत्र साधना पर और जानने के लिए मुझे मैसेज कर रहे हैं, उनसे अनुरोध है कि प्लीज 'राज-योगी:

समाचार

आप रोते रहें, देश ‘बुलेट ट्रेन’ की तरह बढ़ता जाएगा…

मोदी जी बुलेट ट्रेन क्यों ला रहे हैं ? इसकी जरूरत ही नहीं है अभी क्योंकि अभी देश में गरीबी है, बेरोजगारी है,…

मीडिया

सेना के प्रति कुत्सित विचारधारा वालों के मुंह पर एक छोटी बच्ची का जोरदार तमाचा!

सोचिये आप रास्ते से जा रहे हैं कोई आपके कॉलर पकड़ आपको थप्पड़ मारे तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी? आप कोई ना कोई…

सेना के प्रति कुत्सित विचारधारा वालों के मुंह पर एक छोटी बच्ची का जोरदार तमाचा!


प्रेस क्लब बना गुंडों का अड्डा! रवीश का नया संपादक शाहिला और कन्हैया! पत्रकार कलम-कैमरे से नहीं लात-घूंसों से करेंगे बात!


फ़रेब का सहारा लेकर नफरत मत कीजिये जनाब बड़े पत्रकार!


सुपारी पत्रकारों के किले में सेंध लगाता सोशल मीडिया!


गौरी लंकेश हत्या का निहितार्थ!


नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बने तीन साल से अधिक हो चुके हैं, लेकिन आज भी मीडिया उनके साथ शत्रुओं जैसा व्यवहार कर रही है! अब तो हाईकोर्ट ने भी इसे माना है!


लुटियन्स मीडिया के लिए अहमद पटेल की जीत के मायने यदि समझना है तो आप मेरी आपबीती से समझ सकते हैं!



भारत निर्माण

IIP फाउंडेशन ने थामी स्वछता के लिए मशाल!

कचरे से सम्पूर्ण आज़ादी के लिए IIP फाउंडेशन ने मशाल प्रज्वलित की है! जिसकी शुरुवात गांधी जी को याद करते हुए हुई। IIP…

इसीलिए यह दुनिया बच्चों के लिए असुरक्षित होती जा रही है!

याद रखिए बच्चे अपने घरों में सुरक्षित रहते हैं, लेकिन आज के मां-बाप ने उनसे यह अधिकार भी छीन लिया है! पति-पत्नी कार…

राजनीतिक विचारधारा

वामपंथी पाखंड के उदाहरण!

IndiaSpeaksDaily के प्रधान संपादक और कहानी कम्युनिस्टों के लेखक संदीप देव ने भारत में वामपंथ के चेहरे चाल और चरित्र को आप तक…