Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: poem

0

बॉलीवुड की कोयले की खान का हीरा

एक लड़का नेक था होशियार था हर काम में , एक ही हीरा मिला था कोयले की खान में l बॉलीवुड  की  गंदगी  से  दूर  था , ऐसा हीरा था कि जो कोहिनूर था...

0

एक और भागीरथ

भारत  की  धिम्मी- सरकारें , शिक्षा- नीति न बदलेंगीं ; हिंदू – विरोधी  पूरा सिलेबस , इसे  कभी  न  बदलेंगीं । भ्रष्ट हो रही हिंदू पीढ़ी  , झूठे इतिहास को पढ़- पढ़के ; साहस...

1

बाबा गोरखनाथ की कृपा

सबके  साथ का  नारा  झूठा , केवल  गुंडों  का  साथ  है ; सब के विकास की बात भी झूठी, केवल गुंडों पर हाथ है । सब का विश्वास खो दिया तूने ,अब तुझ पर...

0

केंद्रीय कायर सरकार

केंद्रीय   कायर   सरकार  ,बन गयी  है  गुंडों   की  पोर्टर ; चाहे  हो  शाहीन- बाग  या  फिर  हो  दिल्ली  का  बॉर्डर । राष्ट्र – विरोधी  भारत- राज्य  है , कितना  है  ये शर्मनाक ? राष्ट्र...

0

हिंदू क्यों धिम्मी होता

बलात्कार  पीड़ित  के  वंशज ,  कायर दम्पत्ति की संतानें ; ऐसे   ही   हिंदू   धिम्मी   होते  ;  चाहे   वे  माने  न  मानें । डीएनए   में   डर   होता   है  ,  जेहादी   से   डरते  रहते ; राष्ट्र ...

0

यही तो सबसे सही रास्ता

अठ्ठारह  सौ  सत्तावन  में  , अंग्रेजों  पर  आफत  आई ; इसीलिए फिर न हो ऐसा , आर्म्स एक्ट की लानत आई । भारत को  कमजोर करे जो ,  इसी से ये कानून बनाया ;...

0

दिशा और दशा

हिंदू हरदम अन्याय ही सहता ,पर चुपचाप ही रहता है ; हजार बरस की यही कहानी,हिंदू अनवरत ही मरता है । जब हिंदू  प्रतिकार है करता , नेता  चुप करवा देता है ; क्या...

0

ज्ञान सूर्य का उदय

संकट  की  आहट  न  सुनते , बहरे  वे  सब  नेता  हैं ; गुंडागर्दी   देख   न   पाते ,  अंधे   वे   सब   नेता  हैं । सही  बात  जो  बोल  न  पाते ,  गूंगे  वे  सब  नेता...

0

आजादी का जहर महोत्सव

आजादी  का  अमृत  महोत्सव, एकदम  फर्जी  बात   है ; ये  तो   पूरा   जहर  महोत्सव  , आजादी  पर  घात   है । चोर – लुटेरों    की    आजादी  ,  भले  लोग  परतंत्र   हैं ; जगह-जगह  कानून  की ...

0

स्वर्णाक्षर में अंकित हो जा

सर्वश्रेष्ठ  दो  ही  रास्ते  हैं, किसी  एक पर तुम बढ़ जाओ ; या तो  भ्रष्टाचार हटाकर , कानून का शासन लेकर आओ । याफिर तुष्टीकरण हटाकर देश से,अल्पसंख्यकवाद मिटाओ कुछ  भी  तुमसे  हो  न...

0

नंगा सच

कामी  ,  वामी  ,  टेरेरिस्ट   व   धिम्मी ,  ये   चार ; ओढे   लबादा   सेक्यूलर  ,  पर  पक्के   मक्कार । दुश्मन   हैं    ये    राष्ट्र    के   ,   ये   सारे   गद्दार ; हिंदू   से   चिढ़   है   इन्हें ...

0

जीने की राह

राजनीति का  सिस्टम ऐसा ,  योग्यपुरुष  न  आ पाता ; भ्रष्टाचारी  पैसे  वाला  ,  धन  के  बल  पर  आ जाता । सरकारों  में  योग्य  नहीं   है  ,  केवल  कामचलाऊ  हैं ; इक्का-दुक्का  देशभक्त  हैं ...

0

बलिदान वीर गोडसे (भाग-4)

दुश्मन ,  गुंडे , बर्बर ,  हत्यारे , तुम  समझो  उनको बेचारे ; कैसी  भ्रष्ट  हुयी  तेरी  मति ,  उल्टे  दुश्मन  हो गये हमारे । ये   दुर्गुण   तो   थे   गांधी   के  ,  उनसे  तेरे ...

0

दशहरे का प्रण

क्योंकि  हिंदू – नेता  डरते  ,  इसीलिये   हिंदू    मरते   हैं ; जबकि  नेता  पूर्ण  सुरक्षित , फिर भी  वो  डरते  रहते हैं । इनके  खून  में  धिम्मी  रोग  है , गुंडों  की करें  हजूरी ...

0

अब तो केवल यही रास्ता

मरणासन्न  कानून का शासन , जिंदा भ्रष्टाचार है ; रिश्वतखोरी  का बोलबाला , बाकी सब बेकार है । ऊपर से  नीचे को बहती ,भ्रष्टाचार  की  गंगा  है ; क्या नेता है क्या अफसर है?...

0

राष्ट्रीय पहेली

कामी , क्रोधी , लालची ,कायर ,कुटिल , कपूत ; कहीं   नहीं  वो  संत  था  और  नहीं  था  सपूत । सबसे  ज्यादा  हानि  की ,भारत का था  कलंक ; दुर्गंधित  और  सड़ा – गला...

0

रक्षा का अधिकार

धर्म  की  रक्षा जो  करते  हैं , धर्म से  रक्षित  वो होते हैं ; धर्म  की  रक्षा  जो  न करते ,जल्दी ही  मिट वो जाते हैं । सत्ता के रंगे  सियारों ने  , धर्म...

0

सात साल बर्बाद कर दिये

सात साल बर्बाद कर दिये ,राष्ट्र का कुछ भी काम  नहीं ; कश्मीरी विस्थापित हैं लाखों, उनको अब तक धाम नहीं। सात  साल  तक  शिक्षामंत्री ,  गहरी  निद्रा  सोता  रहा ; राष्ट्र विरोधी पाठ्यक्रम...

0

छोड़के सब आश्रम को जाओ

कितना  महंगा  हुआ इलेक्शन , भले लोग  न आ पाते ; केवल   पैसे   वाले   आते  ,  आकर  भ्रष्टाचार  बढ़ाते । भ्रष्टाचार  के  इस  दलदल  में , राष्ट्र  हमारा  डूब  गया ; ठीक से  सूरज...

0

उद्घोष गोडसे का

अपने  ही  सिक्के  खोटे  हैं ,  गैरों   की  क्या  बात  करें ? हिंदू   नेता   बना   सेक्यूलर  ,  चाहे   हिंदू   बेमौत   मरे । अल्पसंख्यक की  इन्हें है चिंता , तुष्टीकरण  इन्हें भाता है ; झूठे...

ताजा खबर